Tuesday, May 17, 2022
Homeउज्जैनउज्जैन:निगम ने बाजार वसूली बढ़ाने का मन बनाया, सीएम तक पहुंची शिकायत

उज्जैन:निगम ने बाजार वसूली बढ़ाने का मन बनाया, सीएम तक पहुंची शिकायत

व्यापारियों ने कहा- प्रति दुकान 20 की जगह 50 से 100 रुपए तक वसूल रहे कर्मचारी

उज्जैन।नगर निगम द्वारा बाजार शुल्क में वृद्धि की जाने से फुटकर और हाथ ठेला व्यापारियों में रोष बना हुआ है। जिसकी शिकायत मुख्यमंत्री को भी की जा चुकी है। व्यापारियों ने कहा कि एक ओर तो प्रदेश के मुख्यमंत्री फुटकर व्यापारियों को बढ़ावा दे रहे हैं तो दूसरी ओर उज्जैन नगर निगम के जिम्मेदार व्यापारियों का शोषण करने पर उतारू है। जब अक्षरविश्व ने व्यापारियों से चर्चा कि तो यह बात सामने आई कि निगम कर शाखा के कर्मचारी ठेले वालों से 10 की जगह 50 तो फुटपाथ पर दुकान लगाने वालों से 20 की जगह 100 रुपए तक वसूली कर रहे हैं। ऐसे में शहर के फुटकर व्यापारियों ने मुख्यमंत्री से शिकायत कर मांग की है कि नगर निगम को बाजार कर में वृद्धि वापस लेनी चाहिए और वर्तमान कर को भी त्योहार के दौरान स्थगित कर देना चाहिए।

इन व्यापारियों का कहना

फुटकर व्यापारी मुन्नालाल जोगी का कहना है कि मैं पिछले 30 सालों से फुटकर व्यापारी हूं। आम दिनों में निगम के कर्मचारी 20 रुपए की पर्ची काटते हंै, लेकिन त्योहार के दिनों में प्रतिदिन 50 से 100 रुपए तक वसूल रहे हैं। ऐसे में हमें दोहरी आर्थिक मार झेलनी पड़ती है।

पिछले 10 वर्षों से निगम को बाजार शुल्क देने वाले व्यापारी अरुण प्रजापत ने बताया कि एक टेबल कुर्सी के लिए 50 रुपए तो दूसरी लगा लेने पर 100 रुपए की पर्ची काटते हंै। ऐसे में हम दुकान में सामान भी ज्यादा नहीं भर पा रहे हैं। जिससे ग्राहकी प्रभावित होता है।

व्यापारी पुरुषोत्तम ने कहा कि जैसे जैसे त्योहार के दिन नजदीक आते हैं निगम के कर्मचारी की वसूली भी बढ़ती जाती है। बाजार में बिक्री हुई तो ठीक, नहीं तो हमें तो निगम के बाजार शुल्क का बोझ उठाना ही पड़ता है।

फुटकर व्यापारी हेमराज मिमरोट ने कहा कि उज्जैन नगर निगम अपनी आर्थिक तंगी का बोझ हम व्यापारियों पर नहीं थोप सकती है। ऐसे में व्यापारियों में फुटकर व्यापार के प्रति रूचि कम हो रही है। पिछले साल की तुलना में कम दुकानें लगी है।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर