Wednesday, May 18, 2022
Homeउज्जैनउज्जैन:भाजपा नेता के खिलाफ एक और केस दर्ज

उज्जैन:भाजपा नेता के खिलाफ एक और केस दर्ज

डेढ़ वर्ष की फरारी के बाद गिरफ्तार किया था पुलिस ने

मामला : सरकारी जमीन पर प्लॉट काटकर लाखों की धोखाधड़ी का…

उज्जैन। अंबोदिया में रहने वाले भाजपा नेता ने अपने साथियों के साथ मिलकर इंदौर रोड़ की सरकारी जमीन पर प्लॉट काटकर लोगों को बेच दिये जिन पर लोगों ने लाखों रुपये खर्च कर मकान भी बना लिये बाद में उन्हें पता चला कि जिस जमीन पर मकान बनाये हैं वह सरकारी है।

एक दर्जन से अधिक लोगों ने नीलगंगा थाने पहुंचकर नेता के खिलाफ धारा 420 के दो केस दर्ज कराये। डेढ़ वर्ष फरार रहने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया जिसके बाद इसी नेता के खिलाफ पंवासा थाने में एक व्यक्ति ने धोखाधड़ी का केस दर्ज कराया है।

पुलिस ने बताया कि महेश पिता मांगीलाल वर्मा 24 वर्ष निवासी सख्याराजे मार्ग देवासगेट से वर्ष 2018 में भाजपा नेता रामसिंह सोलंकी पिता भुवान निवासी अंबोदिया हालमुकाम महाशक्ति नगर ने नीमनवासा स्थित रामकृष्ण विहार कालोनी में प्लॉट बेचने के नाम पर 1 लाख 40 हजार रुपये लिये लेकिन प्लॉट नहीं दिया।

महेश वर्मा ने रामसिंह के खिलाफ शिकायती आवेदन पंवासा थाने में दिया लेकिन पुलिस ने उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की थी। पिछले दिनों नीलगंगा पुलिस ने डेढ़ वर्ष से धोखाधड़ी के मामले में फरार रामसिंह को गिरफ्तार किया और कोर्ट में पेश कर रिमाण्ड पर लिया था। इसी के बाद कल पंवासा पुलिस ने महेश के शिकायती आवेदन की जांच के बाद रामसिंह के खिलाफ धारा 420 के तहत केस दर्ज किया।

एक दर्जन से अधिक फरियादी
रामसिंह द्वारा इंदौर रोड़ स्थित श्रीराम विहार कालोनी अपने तीन अन्य दोस्तों के साथ मिलकर काटी। इसी कालोनी से लगी सरकारी भूमि को भी अपने कब्जे में कर लिया और उसे कालोनी की जमीन बताकर प्लाट काटकर लाखों रुपये में लोगों को बेच दिया। लोगों ने जब इस जमीन पर मकान बनाये तो नगर निगम की टीम उन्हें तोडऩे आ गई जब लोगों को पता चला कि रामसिंह ने धोखा देकर सरकारी जमीन बेची थी। एक दर्जन से अधिक लोगों ने नीलगंगा थाने पहुंचकर रामसिंह के खिलाफ दो केस दर्ज कराये थे।

ऐसे काटी कॉलोनी
महेश वर्मा ने बताया कि वर्ष 2016 में रामसिंह ने विज्ञापन और पम्पलेट्स बांटे व नीमनवासा क्षेत्र में रामनिवास कॉलोनी के होर्डिंग्स लगाये थे। रामसिंह ने बताया कि 450 स्क्वेयर फीट का प्लॉट डेढ़ लाख में मिलेगा। 60 हजार जमा करने के बाद बाकि रुपये 3 हजार रुपये प्रतिमाह किश्तों में देना होंगे। 60 हजार जमा करने के बाद उसके शहीद पार्क स्थित ऑफिस पहुंचकर 3 हजार रुपये हर माह जमा कराये। उसके कर्मचारी डायरी में रुपये की इंट्री करते थे। कुछ लोगों ने प्लॉट पर मकान भी बना लिये। वर्ष 2018 में शासन द्वारा उक्त मकान तोड़ दिये गये और अफसरों ने बताया कि यह जमीन सरकारी है। उसके बाद जब रामसिंह को तलाश किया तो उसका ऑफिस बंद था, घर पर भी वह नहीं मिला। मोबाइल नंबर ब्लैक लिस्ट में डाल दिया। एक वृद्ध को तो उसके द्वारा जान से मारने की धमकी दी गई।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर