Monday, May 16, 2022
Homeदेशउज्जैन:माधव कॉलेज में परीक्षा कंट्रोल रूम का दरवाजा टूटा

उज्जैन:माधव कॉलेज में परीक्षा कंट्रोल रूम का दरवाजा टूटा

प्रश्नपत्रों के बंडल सुरक्षित, उत्तर पुस्तिकाएं गायब

उज्जैन।माधव कॉलेज में एक के बाद एक घटनाक्रम घटते जा रहे हैं। ताजा मामला कॉलेज के परीक्षा कंट्रोल रूम का है। बीती रात किसी ने कंट्रोल रूम का दरवाजा तोड़ा। सूत्रों का दावा है कि कंट्रोल रूम में रखे प्रश्नपत्रों से छेड़छाड़ की कोशिश की गई। वहीं उत्तर पुस्तिकाएं चोरी हुई।
आज सुबह प्राचार्य प्रो. बरमैया से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा किसी ने परीक्षा कंट्रोल रूम का दरवाजा तोड़ा लेकिन प्रश्न पत्र चोरी होने की बात सामने नहीं आई।

नई उत्तर पुस्तिकाओं के बंडल सुरक्षित हैं लेकिन खुली रखी पुरानी उत्तर पुस्तिकाओं में गड़बड़ी की आशंका है। उत्तर पुस्तिकाओं की गिनती करवाई जाएगी। उन्होंने बताया कि इस बारे में सूचना विश्वविद्यालय प्रशासन को दी जा चुकी है। वहां से मार्गदर्शन प्राप्त होने पर जीवाजीगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई जाएगी।

प्राचार्य का कहना था कि परीक्षा शुरू होते ही कॉलेज में दस से बीस लोगों के झुंड का आना शुरू हो गया है। ये लोग स्वयं को छात्र नेता बताकर स्टॉफ पर दबाव बनाते हैं। कल भी तीन नकल प्रकरण बनाए गए। जिसे इश्यू बनाकर बाहरी लोगों ने हंगामा किया। जीवाजीगंज थाना पुलिस को पुलिस बल भेजने के लिए लिखा गया। उन्होंने अब एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ला से चर्चा की है। ताकि वे बड़ा पुलिस बल भेजे और बाहरी तत्वों के घुसने पर रोक लगाई जा सके।

तुरत-फुरत बदला परीक्षा कक्ष

परीक्षा केंद्र प्रभारी प्रो. गौरस्या ने बताया परीक्षा कंट्रोल रूम का दरवाजा टूटा पाया जाने पर तुरत-फुरत अन्य कक्ष में प्रश्न पत्र, उत्तर पुस्तिकाएं, परीक्षा संचालन सामग्री रखी। दरवाजा आज ठीक करवाया जाएगा। उसके बाद लोहे का दरवाजा लगवाया जाएगा। उन्होंने उत्तर पुस्तिकाओं की चोरी को लेकर चुप्पी साध ली।

सीसीटीवी नहीं था कंट्रोल रूम पर
प्राचार्य प्रो. बरमैया ने बताया पूरे कॉलेज में सीसीटीवी कैमरे लगे है लेकिन परीक्षा कंट्रोल रूम के बाहर या अंदर सीसीटीवी कैमरा नहीं था। परीक्षा केंद्र अध्यक्ष से उन्होंने नाराजगी व्यक्त की है कि सीसीटीवी कैमरा नहीं था तो लगवाया क्यों नहीं। प्रो. गौरस्या का कहना है कि हमने परीक्षा कंट्रोल रूम से सारी सामग्री अन्य कक्ष में शिफ्ट करने से पहले पंचनामा बना लिया है। दो-तीन दिन में सारी स्थिति साफ हो जाएगी।

हम तो पहले ही जांच के आदेश दे चुके- कुलसचिव

इस संदर्भ में विक्रम विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. प्रशांत पुराणिक से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि अक्षर विश्व द्वारा रविवार के अंक में प्रकाशित समाचार के आधार पर हमने पुरानी बारकोड वाली उत्तर पुस्तिकाओं के भौतिक मूल्यांकन हेतु जांच बैठा दी थी। विवि द्वारा जितनी उत्तर पुस्तिकाएं दी गई। उस संख्या के आधार पर उपयोग में लाई गई उत्तर पुस्तिकाओं तथा शेष उत्तर पुस्तिकाओं की संख्या का मिलान किया जाएगा। उत्तर पुस्तिकाएं कम पाई जाने पर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर