Wednesday, May 18, 2022
Homeउज्जैनउज्जैन:वित्त वर्ष खत्म, नगर निगम का नया बजट पेश नहीं, क्योंकि...

उज्जैन:वित्त वर्ष खत्म, नगर निगम का नया बजट पेश नहीं, क्योंकि…

उज्जैन निगमायुक्त ने वर्षों से चले आ रहे हवाबाजी के आंकड़ों पर लगा दी लगाम

विभागों से मांगे वास्तविक आय-व्यय के प्रस्ताव, नए सिरे से गुणा-भाग करने में जुटे अधिकारी

उज्जैन।वित्त वर्ष 2021-22 समाप्त हो गया है और नगर निगम का नए वित्त वर्ष को लेकर बजट प्रस्तुत नहीं हुआ है इसका एक सबसे बड़ा फरमान सामने आया है। निगमायुक्त ने हवाबाजी के आंकड़ों पर लगाम लगा दी हैं।

निगमायुक्त ने बजट के लिए हवाई आंकड़ों के प्रस्तावों को खारिज कर वास्तविक आय और व्यय के आंकड़ों के प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। इसके बाद सभी विभागों अधिकारी के अधिकारी नए सिरे से गुणा भाग जमाने में लगे हुए हैं।

नगर निगम के प्रस्तावित बजट को लेकर इस बार सख्त रवैया अपनाया गया हैं। इसमें बजट में रखे जाने वाले मनमाने अनुमानित आंकड़ों को बजट के तौर पर शामिल करने से साफ मना कर दिया है।

निगमायुक्त अंशुल गुप्ता ने इस पर आपत्ति लेते हुए स्पष्ट तौर पर निर्देश दिए कि वास्तविक आय और व्यय के आंकड़ों के साथ हकीकत को ध्यान में रखकर प्रस्ताव बनाया जाए। आयुक्त के सख्त रवैये का असर हुआ कि सभी विभागों को नए सिरे से बजट बना प्रस्ताव देने को कहा गया है।

इसी वजह से वित्त वर्ष समाप्त होने के बावजूद नया बजट प्रस्तुत नहीं हुआ। यह पहली बार हुआ है जब किसी निगमायुक्त ने अधिकारियों को बजट के संबंध में अधिकारियों हकीकत का एहसास कराया है। मुख्य कारण बजट में अनावश्यक खर्चो में कटौती करना भी हैं। इसके बजट को वास्तविक आय-व्यय को आधार मानकर ही बनाया जा रहा है।

निगम बजट की तैयारी चल रही

नगर निगम में वित्त वर्ष 2022-23 के लिए तैयारी चल रही हैं। एक अनुमान के अनुसार बजट 1100 करोड़ रुपये के आसपास हो सकता हैं। वित्त वर्ष 21-22 में निगम ने 806 करोड़ 31 लाख रुपये का बजट पास किया था। यह वर्ष 2020-21 के बजट से 329 करोड़ रुपये कम था। ऐसा पांच साल में दूसरी बार हुआ था जब बजट का आकार बढ़ने की बजाय छोटा हुआ था।

परंपरागत तरीके से प्रस्ताव

नगर निगम बजट को लेकर सभी में जिज्ञासा रहती है। दरअसल निगम के बजट में टैक्स स्लैब में बदलाव के साथ नई योजना और कार्य प्रस्तुत होते हैं। ऐसे में सभी को बजट की प्रतीक्षा रहती हैं। वित्त वर्ष 21-22 खत्म होने के साथ नए वित्त वर्ष 22-23 के लिए बजट प्रस्तुत नहीं हुआ है।

जानकारों का कहना है अब तक नगर निगम के तमाम विभाग बीते बजट के आंकड़ों में आय-व्यय की राशि में वृद्धि करने के साथ ही अपने विभाग के कुछ नए कार्य जोड़ प्रस्ताव बनाकर निगम की वित्तीय शाखा को भेज दिया करते थे, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हो रहा है।

निगम सूत्रों के अनुसार बजट 2022-23 को लेकर के लिए निगम की वित्त शाखा ने सभी विभागों से आय व्यय के आंकडों के साथ नए प्रस्ताव मांगे थे। अधिकांश विभागों ने परंपरागत तरीके से अपने प्रस्ताव बनाकर भेज दिए। इससे निगम का भारी-भरकम बजट तो बन रहा था। पर हकीकत कोसों दूर नजर आ रही थी।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर