Tuesday, May 17, 2022
Homeउज्जैनउज्जैन:हरिनगर ट्रिपल मर्डर…. कॉल डिटेल्स और CCTV फुटेज पुलिस जांच का खास...

उज्जैन:हरिनगर ट्रिपल मर्डर…. कॉल डिटेल्स और CCTV फुटेज पुलिस जांच का खास आधार…

देर रात अंतिम संस्कार परिजनों से पूछताछ

फिलहाल पुलिस को नहीं मिला कोई सुराग

उज्जैन।शहर के जीवाजीगंज थाना क्षेत्र के हरि नगर में रहने वाले मां-बेटे और पोते की हत्या के सनसनीखेज मामले में पुलिस को फिलहाल कोई अहम सुराग हाथ नही लगा हैं।

पुलिस मृतक के मोबाइल की कॉल डिटेल्स और हरिनगर क्षेत्र और इंगोरिया जाने वाले रास्ते के सीसीटीवी फुटेज को आधार बनाकर जांच में आगे बढ़ रही हैं। तीनों शवों का मंगलवार रात अंतिम संस्कार किया गया।मां, बेटे व पोते की गला रेंतकर हत्या के मामले में पुलिस को मृतकों के परिजनों के बयानों का इंतजार है जिसके बाद ही जांच के बिंदु तय होंगे। देर रात तीनों के शवों का परिजनों ने अंतिम संस्कार किया।

यह है पूरा मामला….रविवार को राजेश पिता सोहनलाल नागर 50 वर्ष निवासी हरि नगर, उसके बेटे पार्थ नागर 21 वर्ष के शव इंगोरिया थाना क्षेत्र में मिले थे, जबकि राजेश की मां सरोज पति सोहनलाल नागर का शव मंगलवार को उनके हरि नगर स्थित घर में रखी पलंग पेटी से बरामद हुआ।

पुलिस ने शवों का पीएम कराने के बाद परिजनों को सौंपा। देर रात तीनों शवों का अंतिम संस्कार हुआ इस कारण पुलिस अब तक परिजनों के बयान दर्ज नहीं कर पाई है। एएसपी आकाश भूरिया ने बताया कि राजेश नागर की मुंबई व पुणे में रहने वाली बहनें उज्जैन आ चुकी हैं। उनके बयान भी दर्ज किये जाना हैं जिसके बाद ही जांच के बिंदु तय होंगे। पुलिस को ट्रिपल मर्डर में कोई महत्पूर्ण सूराग तो नहीं मिला है,लेकिन मृतक राजेश नागर ओर उसके परिवार के संबंध में अलग-अलग जानकारी सामने आ रहीं हैं।

WhatsA

मृतक राजेश नागर के पास पुलिस को एक छोटा मोबाइल मिला था। इस पर पुलिस ने पहले सिम चालू करवाई और उसके बाद मोबाइल पर आए नंबरों से बात कर पता लगाया कि मृतक हरि नगर में रहते है। मोबाइल की कॉल डिटेल खंगाली तो दस अलग-अलग नंबर से संपर्क भी किया। इसमें एक नंबर करीब तीन दिन से स्विच ऑफ है।

पुलिस मृतक के मोबाइल से प्राप्त नंबर और सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को आधार बनाकर जांच में जुटी हैं। एसएसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल के अनुसार तीहरे हत्याकांड में जांच के लिए एसआईटी गठित कर दी है। जल्द ही नतीजे पर पहुंचेंगे।

किसी को भी घर में नहीं आने देते थे….

हत्याकांड के संबंध में पुलिस को पूछताछ में कई जानकारी हाथ लगी हैं।

दोनों पिता राजेश नागर,पुत्र नागर साथ ही रहते थे। दोनों पैदल ही घूमते थे। इस दौरान सरोज बाई को घर में बंद कर बाहर से ताला लगा जाते थे। ठ्ठ राजेश नागर ने प्रेम विवाह किया था। पत्नी से विवाद के बाद 2007 में तलाक हो चुका था। राजेश की पत्नी ने दूसरा विवाह भी कर लिया था। ठ्ठ कोई मिलने भी आता तो उसे बाहर से चलता कर देते थे।

इंगोरिया के बामनेरा गांव की पुस्तैनी जमीन वे बेच चुके थे। मुंबई में पार्टनरशिप में हार्डवेयर का व्यवसाय बताते थे। इसके अलावा ब्याज पर पैसा देते हंैं।

राजेश के पिता सोहनलाल नागर वकील थे। उनका मकान पटनी बाजार में अप्सरेश्वर महादेव की गली में था। जिसे बेचकर वह हरि नगर में रहने चले गए थे। सोहनलाल की कुछ जमीन थी जिसे वह करीब 20 साल पहले बेच चुके थे।

पुलिस को आसपास के लोगों से पूछताछ में पता चला है कि 8 अप्रैल की शाम को नागर के घर पर कुछ संदिग्ध लोग राजेश के घर पर आए थे।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर