Wednesday, May 18, 2022
Homeउज्जैनउज्जैन : प्रायवेट फायनेंस वालों ने दबाव बनाया तो युवक ने नींद...

उज्जैन : प्रायवेट फायनेंस वालों ने दबाव बनाया तो युवक ने नींद की 50 गोलियां खा लीं

जिला अस्पताल ने थाने पर दी सूचना लेकिन पांच दिन बाद भी पुलिस बयान लेने नहीं पहुंची

अक्षरविश्व प्रतिनिधि.उज्जैन। सुराखेड़ी थाना इंगोरिया क्षेत्र में रहने वाले ड्रायवर ने प्रायवेट फायनेंस कंपनी के कर्मचारियों से प्रताडि़त होकर 1 नवंबर को नींद की एक साथ 50 गोलियां खा लीं। गंभीर हालत में उसे परिजनों ने जिला अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया। अस्पताल कर्मचारियों ने इंगोरिया पुलिस को सूचना दी बावजूद इसके 5 दिन बाद भी उसके बयान लेने पुलिस अस्पताल नहीं पहुंची।

गुण्डे बदमाश लेकर आते थे रुपये मांगने
राधेश्याम ने बताया कि भाई मनोहर के नाम पूरा मकान है उसने मकान गिरवी रखकर लोन लिया था। कैप्री फायनेंस वाले मनोहर पर मकान बेचने का दबाव बना रहे थे। वह गुण्डे बदमाशों को लेकर घर आते और गाली गलौज व धमकी देकर जाते थे। उनसे प्रताडि़त होकर ही आत्महत्या का कदम उठाया था।

राधेश्याम पिता रामकिशन 43 वर्ष निवासी सुराखेड़ी थाना इंगोरिया ड्रायवर है। उसके भाई मनोहर ने 8 माह पहले आरओ प्लांट डालने के लिये कैप्री फायनेंस से घर गिरवी रखकर 20 लाख रुपये का लोन लिया था। प्लांट डालने के कुछ दिनों बाद लॉकडाउन लग गया इस कारण मनोहर किश्तें समय पर जमा नहीं करा रहा था। फायनेंस के कर्मचारी राधेश्याम पर दबाव बना रहे थे। इसी से प्रताडि़त होकर राधेश्याम ने 1 नवंबर को नींद की 50 गोलियां खा लीं। परिजन उसे जिला अस्पताल लेकर पहुंचे जहां आईसीयू में उसका उपचार किया गया।

सीएम हेल्पलाइन में भी नहीं हुई सुनवाई- पांच दिन पहले आत्महत्या का प्रयास करने वाले राधेश्याम ने कैप्री फायनेंस कंपनी वालों द्वारा प्रताडि़त किये जाने की शिकायत सीएम हेल्पलाइन पर भी की थी। उसने बताया कि सीएम हेल्पलाइन से जवाब मिला कि इस प्रकार की शिकायत की सुनवाई नहीं की जाती है जबकि अस्पताल से सूचना मिलने के पांच दिन बाद भी पुलिस बयान दर्ज करने नहीं आई।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर