Friday, May 27, 2022
Homeदेशउज्जैन : बाबा महाकाल की भस्मारती - शयन आरती में श्रद्धालुओं...

उज्जैन : बाबा महाकाल की भस्मारती – शयन आरती में श्रद्धालुओं की ‘No Entry’

भगवान महाकाल भस्म-शयन आरती में प्रवेश पर रोक,गर्भगृह में गाइडलाइन का पालन

उज्जैन। कोरोना बढ़ते के खतरे को देखते रात्रिकालीन कफ्र्यू लागू होने पर महाकाल मंदिर में भस्मआरती और शयन आरती में आम भक्तों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। भस्मआरती के लिए आने वाले सभी दिनों की अनुमति को निरस्त कर दिया गया है। वहीं दिन के समय में मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश के लिए मंदिर प्रबंध समिति द्वारा तय गाइडलाइन के अनुसार भी प्रवेश होगा। इस संबंध में आगे की स्थिति अनुसार फैसला होगा।

भगवान महाकाल की तड़के होने वाली भस्म आरती में देशभर से श्रद्धालु सुबह जल्दी मंदिर पहुंचते हैं। वही राम को 10:30 बजे होने वाली शयन आरती में अनेक श्रद्धालु शामिल होते है। शासन द्वारा रात 11 से सुबह 5 बजे तक कफ्र्यू लागू कर दिया गया है। ऐसी स्थिति में रात के समय श्रद्धालुओं के आने-जाने से कफ्र्यू का उल्लंघन होगा। इसे ध्यान में रखकर प्रशासन और महाकाल मंदिर प्रबंध समिति ने भगवान महाकाल भस्म-शयन आरती में प्रवेश पर रोक लगा दी है।

मध्यप्रदेश में Night Curfew लागू,नई गाइडलाइन जारी

शुक्रवार तड़के होने वाली भस्मआरती में ही श्रद्धालुओं को ही प्रवेश दिया गया। इसके बाद शनिवार और इसके आगे की परमिशन रद्द कर दी गई है। इसी तरह रात को शयन आरती के पहले तक ही दर्शन के लिए प्रवेश दिया जाएगा। मंदिर के गर्भगृह में फिलहाल श्रद्धालुओं को प्रवेश दिया जा रहा है। समिति द्वारा श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए गर्भगृह में प्रवेश और नंदीहॉल से दर्शन का निणर्य लिया जा रहा है। प्रवेश प्रतिबंध होने पर गर्भगृह में जलाभिषेक की सशुल्क अनुमति जारी होती है। कलेक्टर और महाकाल मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष आशीषसिंह के अनुसार प्रतिबंध केवल भस्मआरती-शयन आरती के लिए है। गर्भगृह में प्रवेश को लेकर स्थिति को देखकर निणर्य लिया जाएगा।

कोरोना काल में कर्फ्यू और गाइड लाइनों का पालन किए जाने से महाकाल की भस्म आरती में श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद कर दिया गया था। अभी छह दिसंबर से ही इसे दोबारा खोला गया था। 17 दिन के भीतर भस्म आरती में फिर श्रद्धालुओं का प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया है। इसके लिए जो भी बुकिंग की गई थीं, उन्हें तत्काल प्रभाव से निरस्त कर दिया गया है।

हमारी जिम्मेदारी…चेन ब्रेक करना, अवेयर होना जरूरी

उज्जैन। सरकार ने प्रदेश में कोरोना के तेजी से फैलाव की आशंका को देखते हुए नाइट कफ्र्यू लागू कर दिया है। यह पाबंदियां और बढ़ाने की नौबत न आए, इसकी जिम्मेदारी हम सभी शहरवासियों को निभाना होगी। कोरोना की दो लहर हम भुगत चुके हैं। खासा नुकसान भी उठा चुके हैं। दोबारा ये नौबत न आए, इसलिए जरूरी है कि भीड़ से बचे, मास्क लगाएं और टीका जरूर लगवाएं।

संक्रमण के बढऩे के बीच लोग अवेयर नहीं हुए और कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया तो संक्रमण की दर और तेजी से बढ़ेगी। विशेषज्ञों का कहना है कि अब संक्रमण तेजी से फैलने लगा है। कोविड की फिर से चेन बनने लगी। एक-दूसरे के कांटेक्ट में आने से हो रहे संक्रमित, चेन ब्रेक करना जरूरी है। अब तक पॉजिटिव में से 4 मरीज ऐसे पाए गए हैं जो यात्रा पर गए थे। एक-दूसरे के कांटेक्ट में आने से संक्रमित हुए। लौटने पर तबीयत खराब हुई। कोविड टेस्ट करवाया तो पॉजिटिव पाए गए। सार्वजनिक स्थानों पर जुट रहे लोगों में भी संक्रमण फैल रहा है। कोविड विशेषज्ञों ने चेताया है कि अभी भी लोग अवेयर नहीं हुए तो चेन ब्रेक होने की बजाए बढ़ती जाएगी। लोगों को अभी से अवेयर होना होगा, जिसमें विशेष रूप से यात्रा पर जाने से बचना होगा। कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। उज्जैन में अब तक आठ मरीज संक्रमित पाए गए हैं। सर्दी-खांसी तथा बुखार के हर मरीज को अपना कोविड टेस्ट करवाने की आवश्यकता है।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर