Sunday, September 24, 2023
Homeउज्जैन समाचारउज्जैन: विक्रम कीर्ति मंदिर बनेगा प्रदेश का अनूठा सांस्कृतिक केंद्र!

उज्जैन: विक्रम कीर्ति मंदिर बनेगा प्रदेश का अनूठा सांस्कृतिक केंद्र!

उज्जैन: विक्रम कीर्ति मंदिर बनेगा प्रदेश का अनूठा सांस्कृतिक केंद्र!

सरकार द्वारा कीर्ति मंदिर और बाल भवन संस्कृति विभाग को सौंपने की तैयारी

अक्षरविश्व .उज्जैन।विक्रम कीर्ति मंदिर कैम्पस को प्रदेश का अनूठा सांस्कृतिक केंद्र बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। कीर्ति मंदिर सहित बाल भवन को इसके लिए संस्कृति विभाग को हैंडओवर करने की तैयारी शुरू हो गई है।

कोठी महल को म्यूजियम बनाने का मामला फिलहाल खटाई में पड़ता नजर आ रहा है। सूत्रों की मानें तो इस प्रस्ताव पर सरकार सहमत नहीं है। इस कारण कीर्ति मंदिर कैम्पस को सांस्कृतिक केंद्र के रूप में विकसित करने की योजना बनाई गई है।

महाराजा विक्रमादित्य शोधपीठ के माध्यम से संस्कृति विभाग इस योजना को आगे बढ़ाने में जुट गई है। विभाग के निर्देश पर शोधपीठ ने विक्रम विश्वविद्यालय प्रशासन और महिला बाल विकास विभाग को पत्र भेजे हैं ताकि दोनों हैंडओवर किए जा सके। इसके बाद योजना तैयार हो सकेगी। बाल भवन अभी महिला बाल विकास विभाग के अधीन है। पूरे कैम्पस को एक कर कालिदास अकादमी से जोड़कर यह केंद्र बनाने का प्रस्ताव है। वर्तमान में शोधपीठ और पुरातत्व संग्रहालय भवन का 12 करोड़ रुपयों से जीर्णोद्धार एवं सौंदर्यीकरण कार्य कराया जा रहा है।

महाकाल मंदिर को भी सौंपा था, कीर्ति मंदिर

विक्रम कीर्ति मंदिर का यह तीसरा हैंडओवर है। 2014 में शिप्रांजलि न्यास की बैठक में तत्कालीन न्यास अध्यक्ष और संभागायुक्त डॉ. रविंद्र पस्तोर ने महाकाल मंदिर प्रबंध समिति को सौंपा था। 2021 में वापस विक्रम विश्वविद्यालय को हस्तांतरित किया गया।

यह है प्रस्तावित योजना :  बाल भवन में संग्रहालय स्थापित किया जाए।

विक्रमादित्य काल के शस्त्रों का भी म्यूजियम में प्रदर्शन हो।

कीर्ति मंदिर के छोटे ऑडिटोरियम को बड़ा कर उपयोगी बनाया जाए।

ऑडिटोरियम की दुकानों में धार्मिक और सांस्कृतिक पुस्तकों का संग्रह और विक्रय केंद्र बनाया जाए।

पत्र मिला है

यह सही है कि महाराजा विक्रमादित्य शोधपीठ के निदेशक का पत्र मिला है, जिसमें विक्रम कीर्ति मंदिर हैंडओवर करने की बात है। इस पर फैसला उच्च स्तर पर होना है। विकास कार्य जरूरी है, वो कोई भी करे। -प्रो. अखिलेशकुमार पांडेय, कुलपति विक्रम विश्वविद्यालय

सांस्कृतिक केंद्र की योजना

कीर्ति मंदिर हस्तांतरण होने के बाद इस कैम्पस को सांस्कृतिक केंद्र बनाने की योजना को मूर्तरूप दिया जा सकता है। उज्जैन सांस्कृतिक राजधानी है। इसी कारण यह विचार है।-श्रीराम तिवारी, निदेशक महाराजा विक्रमादित्य शोध संस्थान

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर