Wednesday, May 18, 2022
Homeउज्जैनउज्जैन:13 दिन...13 थाने...13 केस भी नहीं बना पाई पुलिस

उज्जैन:13 दिन…13 थाने…13 केस भी नहीं बना पाई पुलिस

शहर में अब तक पकड़ाए केवल 8 चायना डोर बेचने वाले

उज्जैन।प्रतिबंधित चायना डोर का शहर में धड़ल्ले से विक्रय हुआ इसे रोकने के लिये शहर के 13 थानों की पुलिस 13 दिनों में 13 लोगों को भी नहीं पकड़ पाई। पुलिस आंकड़ों के मुताबिक शनिवार तक कुल 4 थानों में 8 लोगों को चायना डोर बेचते पकड़ा गया और धारा 188 में कार्रवाई कर जानलेवा डोर के सौदागरों को थाने से जमानत पर छोड़ा गया। बता दें कि आम तौर पर 1 जनवरी से पतंगबाजी का दौर शुरु होता है जो मकर संक्रांति पर पीक रहता है।


गुजरात के रास्ते इंदौर से आती है चायना डोर
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिस चायना डोर का उपयोग लोग पतंगबाजी के लिये करते हैं दरअसल यह प्रतिबंधित डोर मछली का जाल बनाने के प्रयोग के लिये बनाई जाती है। पतंगबाजी में इसका प्रयोग इंसानों के साथ पंछियों के लिये जानलेवा साबित होता है। पतंग व मांझे का धंधा करने वाले बताते हैं कि शहर में गुजरात के रास्ते इंदौर से बड़ी मात्रा में यह डोर उज्जैन पहुंचती है जिसे कुछ रुपये कमाने के चक्कर में लोग चोरी छिपे बेचते हैं।


यह है चेतावनी : नॉट यूस फॉर काईट फ्लाईंग
चायना डोर के नाम से बिकने वाले नायलोन के धागे पर कंपनी द्वारा निर्देश लिखा होता है नॉट यूस फॉर काईट फ्लाईंग। यह धागा पतंग उड़ाने के उपयोग के लिये नहीं है। बावजूद इसके लोग पतंगबाजी के लिये इसी धागे का प्रयोग कर लोगों और पंछियों की जान से खिलवाड़ करते हैं।


एसपी ने चलवाया सर्चिंग अभियान
शनिवार को जीरो पाइंट ब्रिज पर दो पहिया वाहन से फ्रीगंज जा रही किशोरी नेहा आंजना की चायना डोर से गर्दन कटने के बाद मृत्यु हो गई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना पर शोक व्यक्त किया। जिसने भी घटना के बारे में सुना स्तब्ध रह गया। एसपी सत्येन्द्र शुक्ला ने जिले के सभी थाना प्रभारियों को सर्चिंग अभियान चलाने के निर्देश दिये जिसके बाद कोतवाली पुलिसने अशरफ हुसैन पिता आसिक 35 वर्ष निवासी लक्कडग़ंज मालीपुरा को लाल मस्जिद चौराहे से 5 चकरे चायना डोर के साथ गिरफ्तार किया गया। वहीं दूसरा मामला खाराकुआं थाने में दर्ज हुआ है।


प्रधान आरक्षक के बेटे का गला कटा तो उसने पकड़ा डोर बेचनेवाले को…
खाराकुआं थाने में पदस्थ प्रधान आरक्षक इंदरलाल का बेटा 4 दिन पहले मोटर सायकल पर सवार होकर नानाखेड़ा थाने के सामने से जा रहा था उसी दौरान चायना डोर की चपेट में आ गया। उसके बेटे का गला कटा तो राहगिरों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया। इंदरलाल ने बताया कि बेटे को गले में 6 टांके लगे हैं। उसका उपचार कराने के बाद ड्यूटी पर लौटे इंदरलाल ने रात में ही मुखबिर की सूचना पर टकसाली हनुमान मंदिर की गली छत्रीचौक स्थित केजीएन पाइंट नामक दुकान पर दबिश देकर मो. इकबाल पिता अय्यूब 45 वर्ष निवासी नलिया बाखल को 42 नग छोटे और 19 नग बड़े नायलोन चायना डोर के साथ पकड़ा। इकबाल प्रतिबंधित डोर प्लास्टिक की थैली में छिपाकर बेच रहा था। पकड़ाये कुल 61 गट्टों की कीमत10 हजार रुपये बताई गई है।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर