Wednesday, May 18, 2022
Homeधर्मं/ज्योतिषकन्या भोज के बिना अधूरी है नवरात्र पूजा

कन्या भोज के बिना अधूरी है नवरात्र पूजा

अष्टमी और नवमी तिथि पर कन्याओं की पूजा और भोज करवाने से देवी अन्नपूर्णा के साथ महालक्ष्मी की कृपा भी प्राप्त होती है। नवरात्र में देवी मां दुर्गा के सभी साधक कन्याओं को माता जगदंबा का दूसरा स्वरूप मानकर उनकी पूजा करते हैं। शास्त्रों में नवरात्र के अवसर पर कन्या पूजन या कन्या भोज को अत्यंत ही महत्वपूर्ण बताया गया है।

अष्टमी और नवमी के दिन कन्या पूजन का विशिष्ट महत्व है. धार्मिक मान्यता है कि नवरात्रि में कन्या पूजन या कन्या खिलाने के बिना व्रत का पूरा-पूरा लाभ नहीं मिलता है. इसलिए जो पूरे दिन नवरात्रि का व्रत रखते हैं, साथ ही जो प्रथम और अंतिम व्रत रखते हैं. उन सभी को कन्याओं को श्रद्धापूर्वक भोजन कराने और उनका पूजन करने के बाद दक्षिणा देकर सम्मान से विदा करना चाहिए. इससे मां दुर्गा अति प्रसन्न होती है और भक्तों को उनकी मनोकामना पूरा होने का आशीर्वाद प्रदान करती हैं.

नवरात्रि में कन्या पूजन (Kanya Pujan in Navratri) के समय रखें इन बातों ध्यान

कन्या पूजन वाले स्थान की साफ-सफाई अच्छी तरह से कर लेनी चाहिए क्योंकि मां दुर्गा को सफाई बेहद प्रिय है.

कन्याओं को भोजन कराते समय साथ में एक बालक को जरूर बैठाएं. कन्या पूजन के साथ इनका भी पूजन जरूर करें. बालक को बटुक भैरव का प्रतीक माना जाता है. देवी मां की पूजा के बाद भैरव की पूजा बेहद अहम मानी जाती है.

कन्या पूजन में उन्हीं कन्याओं को आमंत्रित करें जिनकी उम्र केवल 2 वर्ष से लेकर 10 वर्ष के बीच में हो.

कन्या पूजन के लिए पूजा पर बैठाने के पूवे व्रती को स्वयं उनका पैर दूध और जल से धोना चाहिए.

कन्या पूजन में उनको खीर, पूड़ी, हलवा, चना, नारियल, दही, जलेबी जैसी चीजों का भोग लगाना उत्तम माना जाता है.

भोजन के बाद कन्याओं की विदाई करते समय यथाशक्ति दक्षिणा दें और उनका पैर छूकर उनका आशीर्वाद जरूर लें.

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर