Monday, May 16, 2022
Homeपेरेन्टिंग एंड चाइल्डपैरेंट्स बने हैं पहली बार, तो ऐसे करे अपने बच्चे की देखभाल

पैरेंट्स बने हैं पहली बार, तो ऐसे करे अपने बच्चे की देखभाल

अगर आप भी पहली बार पैरेंट्स बने हैं तो आपको अपने बच्चे की स्किन का ख्याल रखना सीखना होगा। जन्म के बाद शुरुआती समय की बात करें तो इस दौरान बच्चे की स्किन और बालों में बदलाव आता है।शुरुआती समय में बच्चे के शरीर से पपड़ी निकलती है जो कि एक नॉर्मल प्रक्रिया है। इसे वेरनिक्स कहा जाता है सबसे पहले तो आप ये जान लें कि इसे बच्चे के शरीर से रगड़कर निकालने की कोशिश न करें। इसके साथ ही उस दौरान बच्चे के शरीर पर क्रीम या लोशन लगाने की जरूरत नहीं होती है।

1. बच्चे की त्वचा को पोषण कैसे दें?

बच्चे की त्वचा को पोषण देने के लिए आप तेल मालिश कर सकते हैं। मालिश करने के लिए आप नारियल का तेल, बादाम तेल आदि यूज कर सकते हैं। बच्चे की स्किन के लिए जैतून का तेल भी फायदेमंद होता है। ऐसे तेल का इस्तेमाल न करें जिसमें तेज खुशबू या कैमिकल हों।

2. बच्चे के लिए माइल्ड साबुन का इस्तेमाल क्यों है जरूरी?

शिशु की त्वचा कोमल होती है। बच्चे की त्वचा पर भी गलत प्रोडक्ट इस्तेमाल करने से रैशेज की समस्या हो जाती है इसलिए आपको बच्चे के बाल और स्किन के लिए माइल्ड शैम्पू और साबुन का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर रैशेज की समस्या एक हफ्ते के भीतर ठीक न हो तो डॉक्टर के पास जाएं।

3. इन चीजों को बच्चे की स्किन से रखें दूर

कपड़ों की डाई, डिटर्जेंट, खुशबू वाले बेबी प्रोडक्ट्स आदि को बच्चों की त्वचा से दूर रखें। नवजात शिशु की त्वचा सेंसिटिव होती है और किसी भी केमिकल के संपर्क में आने पर तुरंत रिएक्ट करती है इसलिए आपको बच्चे की स्किन पर केमिकल युक्त चीजों का इस्तेमाल नहीं करना है।

4. बच्चे की त्वचा पर ज्यादा पाउडर का इस्तेमाल न करें

आपको बच्चे की त्वचा पर पाउडर का ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना है। नहलाने के बाद जब तक बच्चे की त्वचा अच्छी तरह से सूख न जाए तब तक पाउडर का इस्तेमाल न करें। पाउडर भी आप ऐसा चुनें जिसमें ज्यादा खुशबू न हो। जरूरत न होने पर हर दिन पाउडर का इस्तेमाल न करें। इससे बच्चे की त्वचा पर बुरा असर पड़ सकता है।

5. बच्चे को कपड़े धोकर पहनाएं

बच्चे को कपड़े हमेशा धोकर पहनाएं नहीं तो त्वचा पर रैशेज, रूखापन या अन्य कोई समस्या हो सकती है। वहीं अगर घर में किसी को स्किन एलर्जी है तो उस व्यक्ति को बच्चे से दूर ही रखें। बच्चे को अगर चेहरे, सिर, कोहनी या घुटनों पर लाल रैशेज होते हैं तो समझ जाइए ये एक्जिमा के लक्षण हैं।

6. बच्चे के नाखूनों को साफ कैसे रखें?

नेल कटर से बच्चे की स्किन कटने का खतरा रहता है इसलिए बच्चे के नाखून काटने के लिए आप चोटी कैंची का इस्तेमाल कर सकते हैं। बच्चे के नाखून में गंदगी भर जाती है इसलिए महीने में एक बार नाखून जरूर साफ करने चाहिए।

7. डायपर रैशेज से बेबी को बचाएं

डायपर के इस्तेमाल से बच्चे को रैशेज की समस्या होती है क्योंकि उसका मटेरियल प्लास्टिक का होता है और गीला होने के कारण बच्चे को खुजली, रैशेज और रेडनेस की समस्या हो सकती है। बच्चे को से कम डायपर पहनाएं और समय-समय पर डायपर बदलते रहें।

8. बच्चे की स्किन को सनबर्न से बचाएं

बच्चे की स्किन नाजुक होती है, आपको बच्चे को तेज धूप में ले जाना अवॉइड करना चाहिए। धूप से बच्चे की स्किन में सनबर्न की समस्या हो सकती है। उसे विटामिन डी दिलाने के लिए आप सुबह के समय धूप में ले जा सकते हैं।

बच्चे की स्किन में किसी भी तरह का बदलाव नजर आने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। स्किन से जुड़ी समस्याओं का तत्काल इलाज न किया जाए तो समस्या गंभीर हो जाती है।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर