बबलू बैचलर में नजर आएंगे शरमन जोशी

बॉलीवुड डेस्क.अपनी दो दशक की जर्नी को शरमन जोशी बहुत अच्छा मानते हैं। उनकी आगामी सोलो फिल्म ‘बबलू बैचलर’ है। इसमें उनके साथ पूजा चोपड़ा और तेजश्री प्रधान हैं। सालाना औसतन दो फिल्में करते आए शरमन आगे ज्यादा फिल्में करने की बात करते हैं। उनसे हुई खास बातचीत…।

बबलू बैचलर’ की कहानी और मेरा किरदार… मेरे किरदार का नाम बबलू है। वह एक ऐसा बंदा है। जो परफेक्ट लड़की की तलाश में है पर वह ढूंढ नहीं पाता है। उसके सारी उम्र बीत चुकी है। अब ऐसा आलम है कि वह जिन लड़कियों को मिलता है।

वह उसे रिजेक्ट करने लगी हैं। अब जाकर उसके जीवन में दो लड़कियां ऐसी आई हैं। जिनसे उसे कहीं न कहीं मोहब्बत हो गई है। वे जब बबलू को रिजेक्ट करती हैं, तब उस पर क्या बीतती है। यह फिल्म की कहानी है।

रियल लाइफ में बैचलर के दिन यादगार… रियल लाइफ में बैचलर जीवन बड़ा मजेदार रहा है। स्कूल कॉलेज के दिनों की यादें बहुत बढ़िया है। बहुत अच्छे दोस्त रहे हैं, लेकिन मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी। हां, स्पोर्ट्स वगैरह खेलता था, इसलिए पॉपुलर बहुत था। ट्राफी वगैरह जीता था तो थोड़ा भाव मिल ही जाता है। सो बैचलर लाइफ काफी यादगार और मजेदार रही।

फिल्म रिलीज में हुई देरी का पता नहीं…- फिल्म की शूटिंग में कितने दिन लगे, मुझे एग्जैक्ट डेट तो याद नहीं है पर 40 से 50 दिन में यह फिल्म बनी है। यह फिल्म 03 अप्रैल को रिलीज हो रही है। इस बारे में मुझे नहीं पता है कि यह पिछले साल रिलीज होने वाली थी और क्यों देर हुई? इस बारे में डायरेक्टर और प्रोड्यूसर ही सच बता सकते हैं।

किरदार के लिए खास तैयारी नहीं करनी पड़ी…- यह रोमांटिक कॉमेडी फिल्म है। इसके लिए कुछ खास तैयारी नहीं करनी पड़ी। जैसा मैंने कहा कि एक बबलू बैचलर बंदा है, जो परफेक्ट लड़की ढूंढ रहा है। ऐसे तो लाइफ में हम सब परफेक्ट लड़कियां ढूंढते हैं। इसी तजुर्बे को आधार बनाकर मैंने कैरेक्टर प्ले किया।

तेजश्री और पूजा के साथ काम करने का अनुभव अच्छा रहा… दोनों ही बहुत कमाल की एक्ट्रेस हैं। तेजश्री तो मराठी सिनेमा की बहुत जानी-मानी एक्ट्रेस हैं। पूजा ने भी बहुत अच्छी-अच्छी फिल्में की हैं। वह ‘कमांडो’ जैसी फिल्मों के हिस्सा रही हैं। स्वभाव से बहुत अच्छी हैं, इसलिए काम करने में और मजा आया।

पीछे मुड़कर देखने पर अच्छा लगता है…- दो दशक की जर्नी को देखता हूं तो बहुत अच्छा लगता है। भगवान की बड़ी कृपा रही है। उनका शुक्रगुजार हूं कि उस प्रोफेशन का हिस्सा बनने का मौका मिला, जो मुझे करना था। सफलता भी मिली और इससे ज्यादा क्या मांग सकता हूं।

सोलो फिल्में क्यों नहीं करते हैं?– मैंने सोलो फिल्में की हैं। ‘बबलू बैचलर’ मेरी सोलो फिल्म ही है जो जल्द ही आ रही है। ‘वॉर छोड़ न यार’, ‘सॉरी भाई’, ‘सुपर नानी’ आदि फिल्में की हैं, पर ये फिल्में चली नहीं।

इन डायरेक्टर्स के साथ दोबारा काम करना चाहूंगा…- राजकुमार हिरानी और राकेश ओम प्रकाश मेहरा के साथ दोबारा काम करना चाहूंगा। मैंने इनके साथ काम किया है और इनकी फिल्में सुपरहिट भी रही हैं। यही वजह है कि इनके साथ दोबारा काम करना चाहूंगा।