महाकाल में भीड़ कम, लड्डू स्टॉक करने का काम रोका

उज्जैन- महाकाल मंदिर प्रबंध समिति ने लड्डू प्रसादी का स्टॉक रखना बंद कर दिया है। जितना स्टॉक अभी रखा हुआ है उतना ही खपाया जाएगा। इसके अलावा आगामी दिनों में भी खपत के अनुसार ही लड्डू बनाने के निर्देश कर्मचारियों को दिए गए हंै।
इधर, महाकाल अन्नक्षेत्र में कार्यरत कर्मचारियों की भी ड्यूटी अन्य स्थानों पर लगा दी है। प्रसादी काउंटरों की स्थिति यह है कि जो प्रसादी पैकेट्स चार-पांच दिनों पहले यहां बेचने के लिए रखे गए थे, वे ही नहीं बिक रहे हैं। ऐसी स्थिति में नये पैकेट्स काउंटरों पर पहुंचाने से रोक दिये गये हैं तो मंदिर समिति ने कर्मचारियों से कहा है कि वे प्रसादी का स्टॉक करना बंद कर दें।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण महाकाल मंदिर में सामान्य श्रद्धालुओं की संख्या में गिरावट आई है। मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या घटने के कारण लड्डू प्रसादी की खपत भी बहुत कम हो गई है। चिंतामण गणेश मंदिर क्षेत्र में मंदिर प्रबंध समिति द्वारा लड्डू प्रसादी का निर्माण यूनिट का संचालन किया जाता है और यहीं से प्रसादी के पैकेट्स मंदिर स्थित काउंटरों पर हर दिन पहुंचाने का काम होता है।

वैसे तो हर दिन ही मंदिर में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है और प्रसादी की भी खपत होने से समिति को अच्छी खासी आय होती है परंतु जब से कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मंदिर में श्रद्धालुओं की संख्या में कमी आई है तभी से प्रसादी का खपत भी बहुत कम हो गई है। मंदिर समिति ने अन्नक्षेत्र का संचालन भी फिलहाल बंद कर दिया है।

भस्मारती में श्रद्धालुओं के प्रवेश संबंधी फैसला 31 मार्च के बाद ही होगा, लड्डू प्रसादी स्टॉक नहीं रखा जा रहा है। जो पैकेट्स अभी काउंटरों पर है, उन्हें ही पहले बेचने के निर्देश कर्मचारियों को दिए गए हंै। प्रसादी को बनाने का काम भी उतना ही होगा, जितनी आवश्यकता होगी। – मूलचंद जूनवाल, सहायक प्रशासक, महाकाल मंदिर