Wednesday, May 18, 2022
Homeउज्जैनमहाकाल में होली के बाद बदलेगा आरतियों का समय

महाकाल में होली के बाद बदलेगा आरतियों का समय

शीतलता के लिए भगवान करेंगे ठंडे जल से स्नान…

उज्जैन। ऋतु परिवर्तन का असर भगवान की दिनचर्या पर भी पड़ता है। होली से ग्रीष्म ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। होली के बाद से भगवान श्री महाकाल को ठंडे जल से स्नान करवाया जाएगा। अभी भगवान को गर्म जल से स्नान करवाया जा रहा है। इसी के साथ आरतियों के समय में भी परिवर्तन किया जाएगा।

शीत ऋतु की शुरुआत कार्तिक मास से होती है। इसीलिए दिवाली से पूर्व रूप चतुर्दशी से भगवान श्री महाकालेश्वर को गर्म जल से स्नान करवाया जाता है यह सिलसिला होली पर्व तक चलता है। होलिका दहन के साथ ही ग्रीष्म की ऋतु की शुरुआत हो जाती है। इसीलिए होली पर्व के बाद भगवान को ठंडे जल से स्नान करवाया जाएगा।

वहीं आरतियों के समय में भी बदलाव होगा। होलिका दहन १७ मार्च को होगा और अगले दिन चैत्र मास की कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा है। इस दिन से भगवान को ठंडे जल से स्नान का सिलसिला शुरू होगा जो कार्तिक मास की चतुर्दशी तक चलेगा। वहीं महाकाल की आरतियों के समय में भी बदलाव होगा। दद्योदक आरती सुबह 7 से ७.४५ बजे तक, तृतीय भोग आरती सुबह १० से १०.४५ तक और संध्या आरती शाम ७ से ७.४५ तक होगी। वहीं भस्मारती और शयन आरती के समय में बदलाव नहीं होगा। भस्मारती सुबह ४ बजे और शयन आरती रात्रि १०.३० से ११ बजे तक होती है।

 

‘शिव आराधना से राष्ट्र आराधना को साकार करते हुए बाबा महाकाल की पावन भूमि में विश्वमांगल्य सभा द्वारा सामूहिक श्री शिवमहिम्न स्त्रोत का पाठ आज किया जा रहा है। इस ोत का पाठ 300 से अधिक महिलाएं बाबा महाकाल के समक्ष कर रही हैं। विगत सात दिनों से श्री शिवमहिम्न प्रशिक्षण शिविर शहर के अलग-अलग स्थानों पर हुए। श्री शिवमहिम्न शिक्षा शिविर का पूर्णाहुति समारोह भारत माता मंदिर, माधव सेवा न्यास में होगा।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर