Saturday, January 28, 2023
Homeउज्जैन समाचारयूजीसी का आदेश 31 दिसंबर तक कोर्स छोडऩे पर विद्यार्थियों को लौटाई...

यूजीसी का आदेश 31 दिसंबर तक कोर्स छोडऩे पर विद्यार्थियों को लौटाई जाएगी पूरी फीस

विक्रम विवि में सीयूईटी के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन करा चुके 200 विद्यार्थियों को मिलेगा इसका लाभ

विद्यार्थियों को बताना पड़ेगा वाजिब कारण

उज्जैन। वर्ष 2022-23 के लिए सीयूईटी पाठ्यक्रम में प्रवेश ले चुके विद्यार्थियों को बड़ी राहत भरी खबर है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने शैक्षिणक संस्थानों को निर्देश दिए हैं कि 31 दिसंबर तक कोर्स छोडऩे पर छात्र-छात्राओं को पूरी फीस लौटाई जाएगी, वहीं कोर्स छोडऩे के लिए विद्यार्थियों को वाजिब वजह बतानी होगी।

सत्र 2022-23 में कॉलेजों में 10 अक्टूबर तक यूजी-पीजी पाठ्यक्रम में विद्यार्थियों को प्रवेश दिए गए है । विश्वविद्यालयों में सीयूईटी के चलते प्रवेश प्रक्रिया नवंबर तक चलेगी। इसके चलते यूजीसी ने विद्यार्थियों को ध्यान में रखते हुए प्रवेश निरस्त करने पर पूरी फीस लौटाने के बारे में कहा है।

संस्थान सिर्फ एक हजार रुपए काट सकते हैं। वहीं यूजीसी ने विद्यार्थियों को प्रवेश निरस्त करनी की ठोस वजह बताने पर जोर दिया है। वहीं, दूसरी तरफ संस्थानों को रिक्त सीटों की जानकारी भेजनी है। विश्वविद्यालय अधिकारियों के मुताबिक, यूजीसी के निर्देश मिलने के बाद कालेजों को पत्र लिखा है और प्रवेश निरस्त होने के बारे में उच्च शिक्षा विभाग और विश्वविद्यालय को जानकारी देना है। यूजीसी ने कोर्स छोडऩे वालों की जानकारी भी 15 जनवरी तक मांगी है। वहीं फीस नहीं लौटाने पर विद्यार्थी अपनी शिकायत यूजीसी को कर सकते हैं।

अनुमति के बाद रिक्त सीटों पर मिलेगा प्रवेश

कालेजों में भले ही प्रवेश बंद हो चुका है, मगर सीयूईटी देने वाले विद्यार्थियों को भोज मुक्त विश्वविद्यालय के माध्यम से दूरस्थ शिक्षा के तहत पाठ्यक्रम में प्रवेश दे सकते हैं। अनुमति मिलने के बाद विश्वविद्यालय के विभाग संस्थान स्तर पर रिक्त सीटों पर प्रवेश दे सकते हैं। फिलहाल विभागों ने अभी अनुमति मांगने के लिए कोई प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ाई है।

इनका यह है कहना…..

विवि अनुदान आयोग के निर्देश का विक्रम विवि में भी पालन किया जाएगा। सीयूईटी पाठक्रम के अंतर्गत विक्रम विवि में रजिस्ट्रेशन करा चुके करीब 200 विद्याथियों को इसका लाभ मिलेगा। यदि को विद्यार्थी कोर्स छोडऩा चाहता है तो उसे तय समय सीमा में इस बात का वाजिब कारण बताना होगा।
डॉ. अखिलेश कुमार पांडे
कुलपति विक्रम विवि उज्जैन

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर