Wednesday, October 4, 2023
Homeउज्जैन समाचारहरसिद्धि मंदिर में भी बावड़ी, जिसे कवर कर बना रखा है प्लेटफार्म

हरसिद्धि मंदिर में भी बावड़ी, जिसे कवर कर बना रखा है प्लेटफार्म

बावड़ी पर बना यह प्लेटफॉर्म जहां अक्सर श्रद्धालु बैठते हैं…

अक्षरविश्व प्रतिनिधि .उज्जैन। इंदौर में एक धार्मिक स्थल पर बावड़ी धंसने के गंभीर हादसे के बाद उज्जैन में धर्म स्थल या मंदिर परिसर में कुंए-बावड़ी को कवर कर निर्माण की पड़ताल की गई,तो तीन स्थान ऐसे मिले,जहां बावड़ी के हिस्से को कवर कर बंद किया गया है। एक है 51 शक्तिपीठों में एक हरसिद्धि मंदिर और दूसरा स्थान पुष्कर सागर है और तीसरा स्थान वीड़ी क्लॉथ मार्केट का गणेश मंदिर।

मालिका के पास यहां से है बावड़ी का रास्ता 1

हरसिद्धि माता मंदिर के वर्तमान परिसर में दक्षिण में एक बावड़ी बनी हुई है, जो पुराणों के अनुसार एक तीर्थ है। इस बावड़ी के ऊपर एक 1447 संबंध का शिलालेख भी उत्कीर्ण है। इस बावड़ी में जाने के रास्ते को लोहे के गेट पर ताला लगाकर पर बंद कर रखा है,वहीं शेष भाग जो कभी ओपन था,उसे कालांतर में कवर कर बंद कर दिया गया है। वर्तमान में इस जगह प्लेटफार्म और तीज-त्यौहार पर यहां अस्थायी दुकानों का निर्माण भी कर दिया जाता है। इसके अलावा श्रद्धालुओं और आमजन खाली स्थान पर का उपयोग सुस्ताने के लिए करते है।

बावड़ी कब कवर है यह किसी को अधिकृत तौर पर पता नहीं है,लेकिन मंदिर के पुजारी महंत रामचंद्र गिरी के अनुसार प्राचीन और धार्मिक महत्व की यह बावड़ी १८ वीं शताब्दी की है। कभी इस बावड़ी के जल का उपयोग औषधी के रूप में किया जाता था। इसके भीतर जाने का एक मार्ग जिसे बंद कर रखा है। पत्थरों से निर्मित बावड़ी की दीवारों पर सुंदर नक्काशी है। इस बावड़ी को ओपन कर सौंदर्यीकरण किया जाना चाहिए। जिस तरह महाकाल मंदिर कोटी तीर्थ का विकास किया जा रहा है,ऐसा विकास हरसिद्धि मंदिर बावड़ी का होना चाहिए।

पुष्कर सागर पर गर्डर-फर्शी

1

सप्त सागर में से एक पुष्कर सागर के तीन तरफ मकान पक्के मकान बने हुए है। इन मकानों में लोग रहते है। यह सागर एक बावड़ी की तरह नजर आता है। वैसे तो इसका भी अपना धार्मिक-प्राचीन महत्व हे,लेकिन यह श्रद्धालु और
धार्मिक जनों का आगमन अधिकमास और श्रावण में अधिक होता है। यह चिंताजनक बात यह है कि तंग हिस्सें के पुष्कर सागर का आधा भाग गर्डर-फर्शी से कवर है और इस हिस्से तक जाने के लिए भी रास्ता गर्डर-फर्शी से बनाया गया है।

वीडी मार्केट में गणेश जी के सामने जहां भक्त खड़े होते है वह हिस्सा बावड़ी पर…

शहर में परंपरागत बाजार में वीडी क्लॉथ मार्केट एक ऐसा नाम है, जो लगभग 1980 में यहां स्थापित हुआ। इसके पहले छोटा और बड़ा सराफा में ही रेडीमेड कपड़ों का बाजार हुआ करता था। उस समय यहां 10-12 दुकानें हुआ करती थीं, लेकिन वर्तमान में यहां 300 से अधिक दुकानें हैं।

हर दिन यहां लाखों रुपए का बाजार होता है। यहां पर एक गणेश मंदिर है। मंदिर का एक हिस्सा यहां की पूरानी बावड़ी पर बना हुआ है। मंदिर में बावड़ी से अलग स्थान पर गणेश जी मूर्ति विराजित है,लेकिन गणेशजी के सामने भक्तों के खड़े और बैठने का स्थान है वह बावड़ी के ठीक ऊपर आरसीसी से निर्मित है। देखने में आया कि इस आरसीसी का स्लैब जर्जर हो गया है और इसके जंग लगे सरिए नजर आ रहे है।

जल्द ही जांच करेंगे

इंदौर की घटना के बाद शहर में कुंए-बावड़ी के आसपास या ऊपर बने धार्मिक स्थल,मकान या अन्य निर्माण की जल्द जांच कर स्थिति अनुसार निर्णय कर कार्रवाई की जाएगी।
रोशन कुमार सिंह,नगर निगम आयुक्त।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर