Sunday, October 1, 2023
Homeउज्जैन समाचार5 मिनिट का समय बस चालकों के बीच करवा रहा विवाद

5 मिनिट का समय बस चालकों के बीच करवा रहा विवाद

स्टैंड से सवारी बैठाने के चक्कर में यात्री बसों में होड़, समय पूरा होते ही कहासुनी हो जाती है शुरू

अक्षरविश्व न्यूज.उज्जैन। नानाखेड़ा बस स्टैंड से संचालित हो रही इंदौर और देवास रूट की बसों को परिसर में खड़े रहकर सवारी बैठाने के लिए 5 मिनिट का समय निर्धारित है। यही बस चालकों और एजेंटों के बीच रोज विवाद का कारण बन रहा है। इसे लेकर पूर्व में भी यहां कई बार झगड़े हो चुके हैं। इस दौरान यात्रियों को परेशान होना पड़ता है।

उल्लेखनीय है कि पुराने शहर में स्थित देवासगेट बस स्टैंड से अंचल की बसों का संचालन होता है। जबकि इंदौर और देवास रूट की बसों का परिचालन नानाखेड़ा बस स्टैंड से निर्धारित है। नानाखेड़ा बस स्टैंड पर प्रत्येक बस चालक को परिसर से सवारी बैठाने के लिए 5 मिनिट का समय जिला परिवहन विभाग द्वारा निर्धारित किया गया है।

इस अवधि में बस चालक चाहते है कि बसों की सभी सीटें सवारियों से फुल हो जाए। जबकि प्रतिक्षा में पीछे खड़ी अन्य बसों के चालक और एजेंट यह इंतजार करते है कि आगे खड़ी बस के 5 मिनिट का समय कब पूरा हो, ताकि सवारी बैठाने का अवसर उन्हें भी मिले। इस बीच अगर आगे खड़ी बस के चालक द्वारा 5 मिनिट का समय गुजर जाने के बाद भी बस आगे नहीं बढ़ाई जाती है, तो यहीं से विवाद की शुरूआत हो जाती है। समय होते ही अन्य बसों के चालक और एजेंट वहां पहुंच जाते है और बस को आगे बढ़ाने का कहने लगते है।

ऐसे में कई बार मामला तू-तू, मैं-मैं से शुरू होकर हाथापाई और मारपीट तक पहुंच जाता है। देवास गेट तथा नानाखेड़ा बस स्टैंड का इस मामले में पुराना रिकॉर्ड रहा है। सवारी और समय के चक्कर में कई बार यात्री बसों के एजेंटों के बीच खूनी संघर्ष भी हो चुके है।

100 से अधिक बसें चलती है इन रूटों पर

शहर के देवास गेट तथा नानाखेड़ा बस स्टैंड से यूं तो रोजाना लगभग ३५० से अधिक यात्री बसों का संचालन अंचलों और शहरों के लिए होता है। इनमें 100 से अधिक इंदौर तथा देवास रूट की बसें है। जो नानाखेड़ा बस स्टैंड से संचालित होती है। हालांकि कई बसें नियम विरूद्ध देवास गेट बस स्टैंड से भी देवास और इंदौर के लिए चलाई जा रही हैं।

पुलिस व्यवस्था नहीं इसलिए बेखौफ

देवास गेट स्थित बस स्टैंड पर तो समीप ही देवासगेट पुलिस थाना है, फिर भी यहां कई बार सवारी बैठाने के चक्कर में बस चालक और एजेंट आपस में झगड़ लेते है लेकिन नानाखेड़ा बस स्टैंड से पुलिस थाना काफी दूर है और यहां पुलिस चौकी भी नहीं है। इसी के चलते सवारी और समय को लेकर एजेंटों के बीच विवाद अधिक होते है।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर