Sunday, January 29, 2023
Homeधर्मं/ज्योतिषअक्षय नवमी आज,आंवले के पेड़ की होती है विशेष पूजा, जानिए शुभ...

अक्षय नवमी आज,आंवले के पेड़ की होती है विशेष पूजा, जानिए शुभ मुहूर्त

हिंदू धर्म में आंवला नवमी का विशेष महत्व होता है। इसे अक्षय नवमी भी कहा जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार, आज कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि है. ऐसे में आज अक्षय नवमी या आंवला नवमी मनाई जा रही है. इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है. और आंवले के पेड़ की पूजा भी की जाती है. इस दिन स्नान, दान, व्रत-पूजा का विधान रहता है.

यह संतान प्रदान करने वाली और सुख समृद्धि को बढ़ाने वाली नवमी होती है.पौराणिक मान्यता है कि इस दिन से ही द्वापर युग की शुरुआत हुई थी. इस दिन आंवले के पेड़ के नीचे भोजन कराने का विधान है. मान्यता है कि इस दिन विधि पूर्वक आंवले के नीचे ब्रह्मण भोजन कराने से भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होती है. मान्यता है यह भी है कि आंवले के वृक्ष में भगवान विष्णु का वास होता है. ऐसे में जानते हैं कि अक्षय नवमी या आंवला नवमी पर किस प्रकार पूजा की जाती है

अमला नवमी का शुभ मुहूर्त

इस वर्ष कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि 1 नवंबर 2022 को रात्रि 11.04 बजे से प्रारंभ होकर 2 नवंबर 2022 को रात्रि 09:09 बजे समाप्त होगी.ऐसे में उदय की तिथि को देखते हुए 02 नवंबर को आंवला नवमी का पर्व मनाया जाएगा.

अक्षय नवमी को पूजन का शुभ मुहूर्त 06 से होगा: 2 नवंबर की सुबह 34 से दोपहर 12:04 बजे तक। यह पर्व कार्तिक शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है। इस दिन व्रत, पूजा, तर्पण और दान का विशेष महत्व है। यह अक्षय नवमी या आंवला नवमी पर था कि भगवान कृष्ण वृंदावन-गोकुल की सड़कों को छोड़कर मथुरा के लिए रवाना हुए।

अक्षय नवमी 2022: पूजा विधि

अक्षय नवमी या आंवला नवमी के दिन स्नान करें और पूजा करने का संकल्प लें। प्रार्थना करें कि आंवला की पूजा करने से आपको सुख, समृद्धि और स्वास्थ्य की प्राप्ति हो। इसके बाद पूर्व दिशा की ओर मुख करके आंवले के पेड़ के पास जल चढ़ाएं। फिर इसकी जड़ में कच्चा दूध मिलाएं। पूजा सामग्री से पेड़ की पूजा करें और 8 परिक्रमा करते हुए कच्चे रुई या मौली को उसकी सूंड पर लपेट दें।

कहीं-कहीं 108 परिक्रमा भी की जाती है।और कपूर से आरती करें। इसके बाद परिवार व संतान के सुख-समृद्धि की प्रार्थना कर परिवार व मित्रों के साथ पेड़ के नीचे बैठकर भोजन किया जाता है.। पेड़ के नीचे गरीबों को खाना खिलाएं और खुद भी खाएं।

आंवला नवमी का महत्व

आंवला नवमी के दिन आंवले के पेड़ के नीचे खाना बनाने और खाने का विशेष महत्व है. आंवला नवमी के दिन भगवान विष्णु ने कुष्मांडाका राक्षस का वध किया था। इसी दिन भगवान कृष्ण ने कंस का वध करने से पहले तीन वनों की परिक्रमा की थी। अक्षय नवमी पर आज भी लोग मथुरा-वृंदावन की परिक्रमा करते हैं। संतान प्राप्ति के लिए इस नवमी की पूजा का विशेष महत्व है। इस व्रत में भगवान श्री हरि का स्मरण करके रात्रि जागरण करें।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर