Monday, February 6, 2023
Homeइंदौर समाचारइंदौर के सभी एड्रेस होंगे Digital

इंदौर के सभी एड्रेस होंगे Digital

इंदौर:- इंदौर डिजिटल एड्रेसिंग सिस्टम वाला भारत का पहला शहर बनने जा रहा है। इसके लिए स्मार्ट सिटी कंपनी आज अहम कदम उठाने जा रही है। एमओयू पर स्मार्ट सिटी के सीईओ ऋषभ गुप्ता दोपहर 2.15 बजे एड्रेस नेविगेशन के साथ हस्ताक्षर करेंगे। इस एमओयू पर स्मार्ट सीड इनक्यूबेशन सेंटर सिटी बस ऑफिस कैंपस में हस्ताक्षर किए जाएंगे।

एमओयू के तहत सभी सरकारी विभाग आपातकालीन सेवाएं जैसे एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड, पुलिस इस एप का इस्तेमाल करेंगे। इस एड्रेस ऐप का इस्तेमाल ई-केवाईसी आदि के साथ बैंकिंग जियोटैगिंग के लिए किया जाएगा। सभी विभागों में एड्रेस भी इंटीग्रेट किया जाएगा। एड्रेस नेविगेशन ऐप में एक पेटेंट उन्नत तकनीक विकसित की। इसने देश के लिए एक डिजिटल एड्रेसिंग सिस्टम बनाने के लिए इसरो के साथ साझेदारी की है।

वह एड्रेस ऐप वास्तव में एक छोटा और अनूठा कोड है। जैसे कुमार 100 और सिंह 221 या इसी तरह का पसंदीदा कोड होगा। इससे आपकी जियो की टेकिंग लोकेशन पहुंच जाएगी। इस ऐप पर आप पूरा टेक्स्ट एड्रेस, प्रॉपर्टी पिक्चर्स, लैंडमार्क आदि दर्ज कर सकते हैं। साथ ही आप दिशा रिकॉर्ड कर सकते हैं। इससे पता प्रदान करने के लिए बार-बार कॉल करने की समस्या समाप्त हो जाएगी और आगंतुक आसानी से पता ढूंढ सकेंगे।

इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप भविष्य में अपना लंबा और जटिल पता साझा करने के बजाय बस एक छोटा कोड साझा कर सकते हैं। एड्रेस नेविगेशन के रजत जैन और उनकी टीम को उम्मीद है कि इंदौर के लोग नंबर एक होने की अपनी भावना को बनाए रखेंगे और नंबर एक डिजिटल एड्रेस सिटी क्रांति इंदौर का हिस्सा बनेंगे।

मुक्त हो जाएगा
एड्रेस ऐप एक फ्री प्लेटफॉर्म है। इसके इस्तेमाल से पार्सल डिलीवरी कंपनियां सही लोकेशन पर पहुंचेंगी। ई-कॉमर्स के लिए अंतिम मील तक पहुंच पते के माध्यम से संभव होगी और कम ईंधन की खपत का लाभ डिलीवरी लोगों को दिया जाएगा और यह ऐप इंदौर शहर के प्रदूषण स्तर को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। पता ड्रोन डिलीवरी के लिए भी काम करेगा।

हर साल होता है 75 हजार करोड़ का नुकसान

रिपोर्ट के मुताबिक इस समय भारत को एड्रेसिंग सिस्टम से हर साल 75 हजार करोड़ रुपये का नुकसान होता है। एड्रेस नेविगेशन ने हाल ही में इस नुकसान को कम करने और एड्रेसिंग सिस्टम को कारगर बनाने के लिए प्रधान मंत्री मोदी की उपस्थिति में देश के लिए एक शक्तिशाली डिजिटल एड्रेसिंग सिस्टम बनाने के लिए इसरो के साथ साझेदारी की है। आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार करने की दिशा में यह एक सशक्त कदम है। यह गठबंधन ग्रामीण आबादी को ऋण, बीज, तकनीकी सुविधाएं आदि प्रदान करके ग्रामीण भारत को लाभान्वित करेगा।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर