Thursday, February 2, 2023
Homeपेरेन्टिंग एंड चाइल्डबच्चों में पारस्परिक बुद्धि में सुधार के लिए अपनाएं ये टिप्स

बच्चों में पारस्परिक बुद्धि में सुधार के लिए अपनाएं ये टिप्स

पारस्परिक बुद्धि दूसरों के साथ प्रभावी ढंग से समझने और बातचीत करने की क्षमता है। इसमें प्रभावी मौखिक और अशाब्दिक संचार और दूसरों के बीच अंतर को नोट करने की क्षमता शामिल है। बच्चों को अपने आसपास के लोगों की मनोदशा, विशेषताओं, भावनाओं और इरादों को समझने में सक्षम होना चाहिए। यह बच्चों में संचार कौशल के निर्माण में भी महत्वपूर्ण है। इंटरपर्सनल इंटेलिजेंस बच्चों के समग्र विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

1. दोस्तों या रिश्तेदार के घर जाने की योजना

सप्ताह में कम से कम एक बार अपने दोस्तों या रिश्तेदार के घर जाने की योजना बनाएं। यह आपके बच्चे को प्रभावी ढंग से संवाद करने और चर्चाओं  में भाग लेने का आनंद लेने में मदद करता है। यह सक्रिय सुनने के कौशल को भी विकसित करता है।

2. टीम खेल

यह आपके बच्चे को अच्छी तरह से संवाद करने और सुनने में सक्रिय रूप से भाग लेने में मदद करता है, जिम्मेदारी बनाता है, और धैर्य और सहानुभूति प्राप्त करता है। यह टीम भावना और नेतृत्व कौशल विकसित करता है।

3. कुछ भी सिखाने के लिए कहें

इस गतिविधि में अपने बच्चे को अपने भाई या दोस्त को एक छोटा विषय या कुछ भी सिखाने के लिए कहें। यह आपके बच्चे को मजबूत संचार कौशल और गैर-मौखिक संचार बनाने में मदद करेगा। यह आत्मविश्वास हासिल करने और प्रतिक्रिया देने में मदद करता है।

4. लोगों के बीच बातचीत 

अपने बच्चे को दो लोगों के बीच बातचीत का निरीक्षण करने के लिए कहें। यह समाजीकरण की प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। बच्चा सीखेगा कि कैसे व्यवहार करना है और दूसरों को देखकर प्रतिक्रिया करना है।

5. प्रश्न पूछने का अभ्यास करें

अपने बच्चों में जिज्ञासा को मत मारो, उनसे जितने चाहे उतने प्रश्न पूछने के लिए कहो। उनकी बात अवश्य सुनें, और उनके प्रश्नों को कभी भी नज़रअंदाज़ न करें। प्रश्न पूछने से दीर्घकालिक ज्ञान और कौशल की अवधारण में सुधार होता है। आपका बच्चा ज्ञान और कौशल को दूसरों को लागू करने और स्थानांतरित करने में सक्षम होगा।

6. बातचीत

अपने बच्चे को बातचीत की गतिविधियों में शामिल करें। वे अपने दोस्तों के साथ चीजों पर बातचीत कर सकते हैं और आपस में समस्याओं का समाधान कर सकते हैं। बातचीत उनके आत्मविश्वास, आत्म-सम्मान और सामाजिक कौशल को बढ़ाती है।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर