Monday, May 16, 2022
HomeदेशDiwali 2021: दिवाली पर इन उपायों को करने से मां लक्ष्मी होती...

Diwali 2021: दिवाली पर इन उपायों को करने से मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्न

दिवाली (Diwali 2021) हिंदू धर्म के लोगों का बेहद महत्वपूर्ण त्योहार है। रोशनी से जगमगाता ये पर्व इस बार 4 नवंबर को गुरुवार के दिन मनाया जायेगा। इस दिन नरक चतुर्दशी भी पड़ रही है। दिवाली के दिन प्रदोष काल में महालक्ष्मी पूजन करने का विधान है। इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा के साथ भगवान गणेश, देवी सरस्वती और महाकाली की भी पूजा होती है। दिवाली का त्योहार हर साल कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है। जानिए क्यों और कैसे मनाया जाता है ये पावन पर्व।

क्यों मनाया जाता है दिवाली का त्योहार? पौराणिक मान्यताओं अनुसार कार्तिक मास की अमावस्या के दिन भगवान श्री राम चौदह वर्ष का वनवास काटने के बाद अयोध्या वापस लौटे थे। इसी खुशी में अयोध्या वासियों ने दीये जलाकर उत्सव मनाया था। कहते हैं तभी से दिवाली पर्व की शुरुआत हुई। ऐसी भी मान्यता है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने राक्षस नरकासुर का वध कर देवताओं को उसके आतंक से मुक्ति दिलाई थी। इसलिए कार्तिक चतुर्दशी पर नरक चतुर्दशी का त्योहार भी मनाया जाता है।

दिवाली पर कैसे करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न:

-मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहे इसके लिए दिवाली वाले दिन बेडरूम और पूजा घर में हल्की चंदन की अगरबत्ती जलाएं।

-दिवाली वाले दिन पूजा करते समय धनिया के बीज एक कटोरी में रखें और पूजा के बाद उन्हें घर के बगीचे या किसी गमले में बो दें। मान्यता है ऐसा करने से घर में सदैव सुख-समृद्धि बनी रहती है।

-दिवाली वाले दिन घर की अच्छे से साफ-सफाई करें। इसके बाद पूजा घर में घी का दीपक जलाएं और घर के बाहर सरसों के तेल के दीपक जलाएं।

-इस दिन मां लक्ष्मी की कमल का फूल अवश्य अर्पित करें।

-दिवाली वाले दिन घर के मुख्य द्वार पर मां लक्ष्मी के पैरों के चिन्ह चिपकाना शुभ माना जाता है।

-दिवाली वाले दिन घर के मुख्य दरवाजे पर चांदी का स्वास्तिक लगाना शुभ माना जाता है। आप चाहें तो रोली का स्वास्तिक भी बना सकते हैं।

-दिवाली वाले दिन घर के मुख्य दरवाजे पर आम या केले के पत्तों की तोरण लगाना शुभ माना जाता है।

-इस दिन मां लक्ष्मी के स्वागत के लिए घर के मुख्य दरवाजे पर रंगोली जरूर बनाएं।

दिवाली पूजा शुभ मुहूर्त: लक्ष्मी पूजा का सबसे शुभ मुहूर्त शाम 06:09 PM से रात 08:04 PM तक रहेगा। अमावस्या तिथि का प्रारंभ 4 नवंबर को 06:03 AM से होगा और समाप्ति 5 नवंबर को 02:44 पर।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर