Thursday, February 2, 2023
Homeउज्जैन समाचाररविवार को इन क्षेत्रों की बिजली सप्लाय रहेगा बंद

रविवार को इन क्षेत्रों की बिजली सप्लाय रहेगा बंद

उज्जैन। आवश्यक रखरखाव और मेंटेनेंस कार्य के चलते रविवार को नागझिरी सोयाबिन प्लांट, आर्दश नगर, नेहरू नगर, संस्कार स्कूल, शिवांश वेली आदि कॉलोनियों में सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक विद्युत प्रदाय बाधित रहेगी। मेंटेनेंस का समय आवश्यकतानुसार कम या बढ़ाया जा सकता है।

आज शाम शहर की यातायात व्यवस्था को लेकर होगा मंथन

उज्जैन। महाकाल लोक के लोकार्पण के बाद से शहर में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। इसी को दृष्टिगत रखते हुए शहर में यातायात व्यवस्था सुगम बनाना अतिआवश्यक हो गया है। आज शाम 4 बजे कलेक्टर कार्यालय प्रशासनिक संकुल भवन में कलेक्टर की अध्यक्षता में शहर की यातायात व्यवस्था को लेकर नगर निगम यातायात समिति के साथ बैठक आयोजित की जाएगी जिसमें शहर की यातायात से संबंधित प्रमुख विषयों पर चर्चा की जाएगी।

यातायात एवं परिवहन विभाग समिति प्रभारी दुर्गा चौधरी द्वारा समिति के साथ शुक्रवार को निगम मुख्यालय में बैठक आयोजित करते हुए कलेक्टर की अध्यक्षता में शहर की यातायात व्यवस्था को लेकर होने वाली बैठक के एजेंडे के विषय में चर्चा की। जिसमें शहर के मार्गों को एकांकी मार्ग बनाना, शहर में अव्यवस्थित रूप से रोड पर खड़े पुराने एवं भंगार वाहनों को हटाना, महाकाल लोक में जिस तरह प्रतिदिन श्रद्धालुओं की संख्या बड़ी तादाद में बढ़ रही है उनके लिए भी यातायात व्यवस्था समुचित रूप से कराना ताकि श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की समस्या न होने पाए आदि प्रमुख विषयों पर बैठक में चर्चा की गई। बैठक में उपायुक्त चंद्रशेखर निगम, अधीक्षण यंत्री जी.के कठील उपस्थित थे।

अन्य विभागों में अटैच शिक्षकों को मूल संस्था में जाना होगा

लोक शिक्षण संचालनालय ने जारी किए आदेश

उज्जैन। स्कूल शिक्षा विभाग ने प्रदेश के सरकारी स्कूलों के शिक्षकों को मूल संस्था यानी स्कूलों में फिर से पढ़ाने के आदेश जारी किए हैं। आदेश में लिखा है कि अगर शिक्षकों को मूल संस्था में नहीं भेजा और शिक्षा पोर्टल पर संख्या को नहीं दर्शाया तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।

अन्य विभागों में अटैच शिक्षकों को मूल संस्था में भेजने के संबंध में लोक शिक्षण संचालनालय (डीपीआइ) ने आदेश जारी किया है। आदेश में लिखा है कि शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्यों से मुक्त किया जाए, नहीं तो अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि उज्जैन के साथ ही प्रदेश के तमाम जिलों में बड़ी संख्या में शिक्षक दूसरे विभाग में प्रतिनियुक्ति या संलग्न हैं। इससे विद्यार्थियों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। कई बार जारी आदेश के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होती है। अब इस आदेश के अनुसार उन्हें फिर से मूल संस्था स्कूल में लौटकर पढ़ाना होगा। सरकारी स्कूलों के शिक्षकों को वेतन स्कूलों से जारी होता है, लेकिन वे अटैच दूसरे विभागों में हैं। स्कूल शिक्षा विभाग में पर्याप्त शिक्षक होने के बावजूद उन्हें गैर शैक्षणिक कार्यों में लगाने से कई स्कूल शिक्षक विहीन हो गए हैं।

विभिन्न जगहों पर शिक्षक संलग्न…. शिक्षक कई जगहों पर अटैच और प्रतिनियुक्ति पर हैं। इसमें तमाम विभागों, जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के कार्यालय में शिक्षक अटैच हैं। इससे स्कूलों की पढ़ाई प्रभावित होती है। हालांकि इस संबंध में विभाग कई बार आदेश जारी कर अटैचमेंट समाप्त करने के निर्देश दिए हैं, लेकिन अब तक प्रक्रिया पूरी नहीं हो पा रही है।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर