Jhulelal Jayanti 2020: जानें कौन हैं भगवान झूलेलाल

 झूलेलाल जयंती सिंधी लोगों का महत्वपूर्ण पर्व है। इस धार्मिक त्योहार को भगवान झूलेलाल के जन्मोत्सव के रूप में बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस पर्व को चेटी चंड (Cheti Chand 2020) के नाम से भी जाना जाता है।

धार्मिक मान्यता के अनुसार, ऐसा माना जाता है कि भगवान झूलेलाल जल के देवता वरुण हैं। आइए जानते हैं झूलेलाल जयंती कब है? इसकी मनाने की विधि और मुहूर्त क्या है। साथ ही जानते हैं झूलेलाल की कथा।

कब है झूले लाल जयंती? – हिन्दू कैलेंडर के अनुसार चेटी चंड या झूलेलाल जयंती प्रति वर्ष चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनायी जाती है। कहते हैं इसी दिन भगवान झूलेलाल का जन्म हुआ था। इस बार यह तिथि 25 मार्च 2020 को पड़ रही है। इसलिए झूलेलाल जयंती पर्व 25 मार्च बुधवार को है।

झूलेलाल जयंती 2020 शुभ मुहूर्त – चेटी चंड मूहूर्त – शाम 6 बजकर 35 मिनट से शाम 7 बजकर 24 मिनट तक

झूलेलाल जयंती का धार्मिक महत्व– जैसा कि हम जानते हैं कि झूलेलाल जयंती का पर्व सिंधी समाज के लोगों का प्रमुख त्योहार है। धार्मिक मान्यता के अनुसार, भगवान झूलेलाल वरुण देवता के रूप हैं। कहते हैं सिंधी समाज के लोग जलमार्ग से यात्रा करते थे।

ऐसे में वे अपनी यात्रा को सकुशल बनाने के लिए जल देवता झूलेलाल से प्रार्थना करते थे और यात्रा सफल होने पर भगवान झूलेलाल का आभार व्यक्त किया जाता था। सिंधी समाज के लोग इसे नववर्ष के रूप में भी मनाते हैं।