Monday, November 28, 2022
Homeधर्मं/ज्योतिषघर बनाते समय ध्यान रखें ये VASTU TIPS

घर बनाते समय ध्यान रखें ये VASTU TIPS

वास्तु शास्त्र विज्ञान का एक प्राचीन रूप है जो घर में संतुलन लाने में मदद करता है। वास्तु के सिद्धांतों के अनुसार घर की वस्तुओं, कमरों, दीवारों आदि को इस तरह रखना चाहिए कि सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह स्वतंत्र रूप से हो सके। घर में सद्भाव, शांति, खुशी और धन लाने के लिए सकारात्मक ऊर्जा महत्वपूर्ण है।

क्यों जरूरी है वास्तु?

हमारे ऋषि मुनि के द्वारा पहले से ही वास्तु शास्त्र की रचना की गई है जिससे कि मनुष्य जिस भूमि पर रहता है और जहां घर बनाता है उसका जीवन खुशहाल रहे और उन्हें किसी प्रकार का कोई कष्ट नहीं हो और कोई नकारात्मक ऊर्जा  उनको परेशान न करे।

वास्तु शास्त्र में भूखंड के अलावा दिशाओं का विशेष महत्व दिया गया है। साथ ही उस घर में घर का निर्माण होने के बाद किस तरह का कलर करना चाहिए? कौन सा पौधा लगाना चाहिए? बालकनी में क्या होना चाहिए।  गेट कहां होना चाहिए? किचन कहां होना चाहिए? पूजा घर कहां होना चाहिए? बाथरूम कहां होना चाहिए? टंकी कहां होनी चाहिए? मास्टर बेडरूम किधर होना चाहिए । सेफ्टी टैंक किधर होना चाहिए इत्यादि का बहुत ही विस्तृत जानकारी दी गई है।

घर बनाते समय ध्यान रखने योग्य वास्तु टिप्स

यहां आपके लिए कुछ आसान वास्तु टिप्स दिए गए हैं। सकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करने और अपने परिवार के लिए धन और खुशी के स्तर को बढ़ाने के लिए अपना घर बनाते समय इन बातों का ध्यान रखें:

प्रवेश दीवार

प्रवेश द्वार की दीवार पर गणेश जी की तस्वीर लगाना न भूलें। घर के प्रवेश द्वार पर एक खाली दीवार अकेलेपन का चित्रण और नेतृत्व कर सकती है। वहां देवता को रखकर आप इससे मुकाबला कर सकते हैं और अपने घर में खुशियां ला सकते हैं।

उत्तर-पूर्व दिशा

अच्छे वास्तु को प्राप्त करने के लिए कमरों और वस्तुओं को सही दिशा में रखना महत्वपूर्ण है। उदाहरण के लिए, उत्तर-पूर्व दिशा घर में आध्यात्मिक और समृद्ध विकास लाने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। अपने पूजा या ध्यान कक्ष को घर के उत्तर-पूर्वी कोने में रखें। आपको भरपूर समृद्धि मिलेगी और घर से सारी नकारात्मक ऊर्जा बाहर निकल जाएगी।

सोने का कमरा

घर का निर्माण करते समय बेडरूम को दक्षिण-पश्चिम भाग में रखना याद रखें। इससे निजी संबंधों में स्थिरता और खुशी आएगी। यह धन और समृद्धि में भी आकर्षित करेगा। कमरा उज्ज्वल और अच्छी तरह से प्रकाशित होना चाहिए। दीवारों को हल्के, चमकीले रंगों से पेंट करें और गहरे रंगों के प्रयोग से बचें क्योंकि इससे नकारात्मक ऊर्जा अंदर आ सकती है।

टूटी हुई चीजों को त्यागें

घर में टूटी-फूटी चीजें रखने से परहेज करें। चाहे वह शीशा हो या खिड़की या फिर फर्नीचर, टूटे हुए सामान को जल्द से जल्द फेंक दें। टूटी हुई चीजें सकारात्मक ऊर्जा के आसान प्रवाह को रोकती हैं। यदि आप घर बनाते समय किसी पुरानी और कीमती चीज को तोड़ते या क्षतिग्रस्त करते हैं, तो उसे अंदर न लाएं, क्योंकि इससे परिवार की वृद्धि और समृद्धि में मदद नहीं मिलेगी।

क्रॉस वेंटिलेशन

अपना घर बनाते समय, सुनिश्चित करें कि आप दरवाजे और खिड़कियां इस तरह से रखें कि हवा स्वतंत्र रूप से बहती रहे और पर्याप्त क्रॉस वेंटिलेशन हो। यह न केवल घर में सभी को स्वस्थ रखेगा, बल्कि यह सकारात्मक ऊर्जा को पूरे घर में स्वतंत्र रूप से प्रसारित करने की अनुमति देगा।

भंडारण सावधानी से बनाएं

बहुत से लोग घर के अतिरिक्त सामान को दूर रखने के लिए विशेष रूप से भंडारण क्षेत्रों का निर्माण करते हैं। अपने भंडारण क्षेत्र को बुद्धिमानी से बनाएं। आपके पास कभी भी एक विशेष स्थान नहीं होना चाहिए जो अव्यवस्थित और चीजों से भरा हुआ हो। यह सकारात्मक ऊर्जा को फँसाएगा और उसे प्रवाहित नहीं होने देगा। घर के चारों ओर छोटे, कॉम्पैक्ट भंडारण क्षेत्रों का निर्माण करें ताकि आप संग्रहीत वस्तुओं की जांच कर सकें और उन्हें बड़े करीने से स्टोर भी कर सकें।

दर्पण लगाएं

अपने घर के आसपास कई शीशे लगाएं। यह आपके घर को खूबसूरत लुक देगा। यह सकारात्मक ऊर्जा के मुक्त प्रवाह का मार्ग भी प्रशस्त करेगा। हालाँकि, आपको दर्पणों को सावधानी से लगाने की आवश्यकता है। उच्चतम लाभ प्राप्त करने के लिए अपने घर में दर्पण को सही तरीके से कहां लगाएं, यह जानने के लिए किसी पेशेवर इंटीरियर डिजाइनर या वास्तु विशेषज्ञ से सलाह लें।

फव्वारे के साथ एक छोटा बगीचा स्थापित करें

यदि आपके पास इसका प्रावधान है तो अपने घर में एक छोटा सा बगीचा बना लें। बगीचे में कंकड़ वाला रास्ता और पानी का फव्वारा भी लगाएं। फव्वारा लगातार बहना चाहिए और पानी कभी भी रुका नहीं होना चाहिए। ये दोनों तत्व सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को आसान बनाते हैं। एक बगीचा समृद्धि, स्वास्थ्य और खुशी को भी आकर्षित करता है। घर के उत्तर-पूर्वी कोने में फव्वारा, और अधिमानतः पूरे बगीचे को रखें।

बुद्ध की प्रतिमाएं लगाएं

भगवान बुद्ध की एक मूर्ति सद्भाव और शांति का प्रतीक है। यह समृद्धि का भी प्रतीक है। इसलिए सुनिश्चित करें कि आपके घर में भगवान बुद्ध की कम से कम एक मूर्ति हो। आप आदमकद मूर्तियाँ भी बना सकते हैं और उन्हें अपने बगीचे में या घर के अंदर भी रख सकते हैं। मूर्ति न केवल धन, सद्भाव और शांति लाएगी, बल्कि सही ढंग से रखे जाने पर घर में बहुत अधिक सौंदर्य मूल्य भी जोड़ेगी।

वास्तु के लिए कलर का भी है महत्व 

वास्तु शास्त्र शास्त्र में कलर का भी अध्ययन किया जाता है जिसका अर्थ होता है कौन सी दिशा में कौन सा कलर उसके लिए उपयुक्त होगा, पूर्व दिशा के लिए सुनहरा पीला और नारंगी रंग उपयुक्त होता है उत्तर दिशा के लिए हरा रंग। रंगों से भी घर के वास्तु को ठीक किया जा सकता है और घर में रहने वाले सदस्यों का जीवन  मैं सुख समृद्धि की प्राप्ति के लिए उपयोग किया जा सकता है।

वास्तु शास्त्र में धार्मिक चित्र का भी बहुत महत्वपूर्ण स्थान होता है जैसे ओम्, स्वास्तिक इस सब का उपयोग करके घर में  नकारात्मक ऊर्जा  को घर में प्रवेश करने से रोका जाता है।

वास्तु शास्त्र में पेड़-पौधों का भी अध्ययन किया जाता है कौन सा पेड़ आवासीय घर में रखने से सुख समृद्धि बढ़ती है, घर में रहने वाले सदस्यों पर पॉजिटिव एनर्जी देती है इस सब का भी अध्ययन वास्तु शास्त्र में है । जैसे तुलसी का पौधा, गुलाब के फूल, मनी प्लांट इत्यादि।

जरूर पढ़ें
spot_img

मोस्ट पॉपुलर