Monday, January 30, 2023
Homeपेरेन्टिंग एंड चाइल्डबच्चों को इन तरीकों से समझाएं त्योहारों का महत्व

बच्चों को इन तरीकों से समझाएं त्योहारों का महत्व

परंपराओं और संस्कृति को बेहतर ढंग से समझने के लिए बच्‍चों के लिए त्योहारों के महत्व को जानना जरूरी है. त्‍योहार ही वे मौके होते हैं जब बच्‍चे परिवार और दोस्‍तों के साथ मौजमस्‍ती के साथ-साथ अपनी संस्कृति को भी समझ पाते हैं. हांलाकि, पिछले दो सालों से त्‍योहारों का मजा फीका है. लोग घर में बंद हैं और समाज से जैसे कट से गए हैं. ऐसे में बड़े होते बच्‍चों को त्‍योहारों से जोड़ना बहुत जरूरी है. हालांकि, बच्‍चों को आंख बंद कर अनुष्ठानों का पालन भी नहीं कराना चाहिए बल्कि उन्‍हें यह समझाना भी जरूरी है कि इनका क्‍या अर्थ है और क्‍या महत्‍व है.

हम आपको ऐसी एक्टिविटीज बताएंगे जिसमें आप घर के बच्‍चों को इनवॉल्‍व कर सकते हैं. इन एक्टिविटीज की मदद से बच्‍चे फे़स्टिवल को एन्‍जॉय तो करेंगे ही, साथ ही उन्हें त्योहारों के महत्‍व को भी समझने का मौका मिलेगा.

दिवाली त्योहार अपने परिवारजनों और दोस्तों, रिश्तेदारो के साथ प्यार के साथ जश्न मनाने का दिन है। दिवाली के त्योहार पर आप अपने बच्चों में इस त्योहार के बारें में परिचित करएं, अनुष्ठानों साथ ही समारोहों के बारें में बताना शुरू करें। ये ज्यादा महत्वपूर्ण है कि आप अगली पीढ़ी को क्या देना चाह रहे हैं। सांस्कृतिक इतिहास और त्योहार एक ऐसी चीज है जो आप अपने बच्चों में तोहफे के तौर पर दे सकते हैं, जिससे आपकी विरासत बनीं रहे

एक साथ त्योहार मनाएं –

त्योहार पर पेरेंट्स को चाहिए कि वो अपने बच्चों को समारोह की तैयारी के जरीए से एक दूसरे के साथ फिर से जुड़ने का अवसर प्रदान करें। उनके बारें में बताएं। अपने मूल्यों को समझाने का यही सही वक्त होता है। प्रत्येक त्योहार और उसकी परंपराओं के पीछे की संस्कृति होती है। इस तरह, बच्चे त्योहारों को मनाने के लिए बाध्य महसूस नहीं करते हैं, बल्कि, वे आने वाले वर्षों तक परंपराओं को निभाते हैं। त्योहारों के माध्यम से, विभिन्न धर्मों के संबंध में सम्मान और समझ पैदा की जा सकती है, जिससे वे लोगों के साथ बातचीत में अधिक फ्रेंडली महसूस कर सकें।

बच्चों के साथ रचनात्मक बने –

छोटे बच्चों के लिए, अपनी संस्कृति को जानना आज के टाइम में जरूरी होता जा रहा है। बच्चे पारंपरिक पोशाक पहनकर, सजावट और खाना पकाने में मदद करके और अन्य रचनात्मक गतिविधियों में भाग लेकर अपने त्योहार और समारोहों के जरीए अपने व्यक्तित्व को व्यक्त कर सकते हैं। बच्चा इस त्योहार के पीछे के रीति-रिवाजों और परंपराओं के बारे में जानता हो ये बहुत जरूरी है। घर को सजाने से लेकर दियों में स्थान पर लगाना ये अपने बच्चों को इस त्योहार पर सिखाएं।

परंपराओं और रीति रिवाजों के बारें में बताएं – 

बच्चे लगभग हर चीज के बारे में जिज्ञासु होते हैं, उन्हें त्योहारों और उनके छिपे मतलब के बारे में बताना शिक्षा देना जरूरी है। ये सब उनके लिए रोमांचक हो जाता है। अपने खुद के त्योहारों और परंपराओं को समझना उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि दूसरों के बारे में सीखना। ये सीख जीवन के लिए है और बड़े होने पर उन्हें बेहतर व्यक्ति बनाती है।

त्योहारों का महत्व सिखाएं – 

त्यौहार हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं अपने बच्चों को त्योहारों का महत्व सिखाएं ताकि वे उन्हें भविष्य में आगे ले जा सकें। घर को एक साथ साफ करें- अपने बच्चे को अपने घर को व्यवस्थित और साफ करने में मदद करने के लिए आगे लाएं। उन्हें कुछ कामों का अगुआ बनाकर उन्हें आगे बढ़ने दें। उनने चुनने के लिए कुछ फ्री होल्ड दें। वे कामों को कैसे अपनी तरह से कर सकते हैं।

बच्चों को स्नैक्स बनाने में साथ होने दें – 

दिवाली के त्योहार पर आपके घरों मे बनने व्यंजनों और पकवानों में उनको भी शामिल करें। ये दिवाली त्योहार का मुख्य आकर्षण है। प्रत्येक त्यौहार के लिए विशिष्ट आसान व्यंजन तैयार करने में अपने बच्चों को शामिल करें; जब उन्हें पकाने में उनका हाथ होगा तो उन्हें उनमें शामिल होने में और भी अधिक आनंद आएगा।

त्योहार के लिए तैयार करें – 

त्योहार वाले दिन बच्चे को ये बताएं कि उसे क्या क्या करना है। कपड़ों से लेकर खाने, त्योहार पर पार्टी इन सब के बारें में उसे पहले से समझा दें। ये सब उसको आराम दे सकता है, उन्हें ऐसा महसूस करा सकता है कि वे उत्सव का हिस्सा हैं। उन्हें खुद का आनंद लेने की परमीशन दें।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर