Saturday, January 28, 2023
Homeउज्जैन समाचारयूनानी डॉक्टर बताकर दवाखाना चला रहा था PFI का सदस्य

यूनानी डॉक्टर बताकर दवाखाना चला रहा था PFI का सदस्य

यूनानी डॉक्टर बताकर दवाखाना चला रहा था पीएफआई का सदस्य

उज्जैन के दफ्तर पर दबिश, फ्लैट सील

पीएफआई के खिलाफ एटीएस और एनआइए की कार्रवाई और अब प्रतिबंध के बाद उज्जैन में पीएफआइ के दफ्तर पर पुलिस की दबिश देकर फ्लैट को सील कर दिया है।

पीएफआई के ठिकानों पर रेड और गिरफ्तारी में पहले पीएफआई सदस्य जमील शेख और फिर उससे मिली सूचना पर चार अन्य सदस्यों को गिरफ्तार किया था।

उज्जैन पुलिस ने उज्जैन में पीएफआई का दफ्तर सील कर दिया। बुधवार सुबह पुलिस ने पीएफआई के तोपखाना स्थित शफी सेठ रेसीडेंसी में दफ्तर पर दबिश दी। पुलिस ने बताया कि तोपखाना में शफी सेठ रेसीडेन्सी में पीएफआइ के दफ्तार संचालित होता था।

बुधवार सुबह अधिकारियों ने फ्लैट सील कर दिया। कार्रवाई के दौरान पुलिस को फ्लैट खाली मिला है। पुलिस ने कहा कि पीएफआइ के सदस्य कट्टरपंथी युवाओं का समूह तैयार कर रहे थे। पुलिस ने पीएफआइ से जुड़े कई सदस्यों से पूछताछ शुरू कर दी है।

पांच गिरफ्तार

टीम ने उज्जैन के नगारची बाखल से इसहाक खान, नयापुरा से जुबेर एहमद और अवंतिपुरा से आकिब खान को गिरफ्तार किया। टीम ने महिदपुर से आजम नागौर को भी गिरफ्तार किया। कुछ दिन पहल उज्जैन के विराट नगर से जमील शेख को पकड़ा था.

यूनानी डॉक्टर बताकर दवाखाना चला रहा था पीएफआई का सदस्य

6 माह पहले फ्लैट खाली कर जा चुका है…

उज्जैन।पीएफआई पर प्रतिबंध के बाद पुलिस ने तोपखाना स्थित जिस फ्लैट का पुलिस ने सील किया है,उसके किरायादार के संबंध में चौंकाने वाली जानकारी सामने आ रही है।

फ्लैट की मालकिन ने पुलिस को बताया कि इसमें रहने वाले युवक को अनुबंध के आधार पर फ्लैट किराए पर दिया था। युवक खुद को यूनानी डॉक्टर बताकर दवाखाना चला रहा था और लोगों का इलाज करता था। वह ६ माह पहले फ्लैट खाली कर जा चुका था।

पीएफआई पर 5 वर्ष का प्रतिबंध लगाने के बाद सुबह पुलिस की चार टीमों ने पीएफआइ से जुडे पदाधिकारियों व सदस्यों के घरों पर दबिश देकर पीएफाई के आईडी कार्ड व प्रचार सामग्री जब्त की वहीं एक घर को सील करने की कार्यवाही भी की गई है।लोहे का पुल स्थित शफी सेठ रेसीडेन्सी की दूसरी मंजिल स्थित कमरा नंबर 205 तस्लीम बानो के नाम है।

सुबह 7.45 बजे महाकाल, खाराकुआं, कोतवाली, देवासगेट थानों की टीम क्यूआरएफ व सीएसपी के साथ यहां पहुंची। कमरे पर ताला लगा था। मालिक तस्लीम बानो को बुलाकर चाबी ली और कमरा खुलवाया। सीएसपी महाकाल ने बताया कि यहां पर वसीम नामक पीएफआई सदस्य की तलाश थी, लेकिन मकान मालकिन का कहना है कि वह 6 माह पहले ही फ्लैट खाली कर जा चुका है।

पूरे क्षेत्र में अतिरिक्त फोर्स तैनात

पीएफआई पर प्रतिबंध और सुबह से पुलिस प्रशासन की कार्रवाई के बीच सुरक्षा के मद्देनजर एटलस चौराहा, तोपखाना, दौलतगंज, लोहे का पुल सहित अन्य संवेदनशील इलाकों में क्यूआरएफ का फोर्स तैनात किया गया है। इसके अलावा उज्जेन पुलिस के सभी सीएसपी व थाना प्रभारी अलर्ट मोड में हैं। सुबह कार्रवाई के दौरान चार थानों के प्रभारियों व सीएसपी मौजूद रहे।

3 साल पहले किराये पर दिया जिसकी सूचना थाने को दी थी

तस्लीम बानो पति मो. जाकीर निवासी लोहे का पुल ने बताया कि उन्होंने 3 साल पहले वसीम नामक व्यक्ति को फ्लैट किराये पर दिया था। वह परिवार के साथ रहने आया था और स्वयं को यूनानी डॉक्टर बताकर लोगों का इलाज भी करता था। वसीम को फ्लैट किराये पर देने का एग्रीमेंट कराया था जिसकी सूचना थाने पर भी दी थी।

वह 6 माह पहले फ्लैट खाली कर परिवार के साथ चला गया। एग्रीमेंट वसीम पिता रहीम निवासी आर्य समाज मार्ग और तस्लीम बानो के बीच वर्ष 2019 में हुआ था। मल्टी के रहवासी बताते हैं कि वसीम लोगों का यूनानी तरीके से उपचार करता था, लेकिन उसके यहां पीएफआई के सदस्यों का आना जाना लगा रहता था। पुलिस सूत्रों ने बताया कि वसीम पीएफआइ का सक्रिय सदस्य था और उसके फ्लैट पर पीएफआइ पदाधिकारियों की बैठकें भी होती थीं।

चार को भेजा जेल, प्रतिबंध के बाद जिला प्रशासन के निर्देश पर कार्रवाई-एसपी शुक्ला

पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र कुमार शुक्ला ने बताया कि पीएफआई से जुडे 4 सदस्यों 1 खाराकुआं , 2 जीवाजीगंज और 1 महिदपुर के व्यक्ति को गिरफतार कर जेल भेजा गया था। शासन द्वारा पीएफआई पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अब आगे की कार्रवाई जिला प्रशासन के निर्देशन में चल रही है। इसी के अंतर्गत सुबह पुलिस की 4 टीमों ने अलग-अलग स्थानों पर दबिश देकर आपत्तिजनक सामग्री भी जब्त की है।

सिमी की गतिविधियां थमने के बाद पीएफआई हुआ सक्रिय

बता दें कि उज्जैन और आसपास के क्षेत्र में एक समय में प्रतिबंधित संगठन सिमी खासी सक्रिय रहा है। हालांकि प्रतिबंध के बाद संगठन के गतिविधियां लगभग समाप्त हो गई। इसके बाद पीएफआइ ने अपनी सक्रियता बढ़ाई थी। 2021 में पुलिस ने संगठन के कई सदस्यों पर विभिन्न धाराओं में केस भी दर्ज किए थे। पुलिस अधिकारी अभी कई और बिंदुओं पर भी जांच कर रहे हैं। इसके लिए अन्य एसेंसियों से संपर्क में हैं।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर