Monday, January 30, 2023
Homeउज्जैन समाचारमहाकाल मंदिर में प्रवेश की व्यवस्थाओं का फिर से निर्धारण

महाकाल मंदिर में प्रवेश की व्यवस्थाओं का फिर से निर्धारण

श्रद्धालु त्रिवेणी संग्रहालय और बड़ा गणेश मंंदिर दोनों स्थान से फेसिलिटी सेंटर पहुंच सकेंगे, गेट नंबर 10 से निर्गम

उज्जैन। श्री महाकाल लोक के लोकार्पण के बाद अब महाकाल मंदिर में दर्शन व्यवस्था में परिवर्तन किया गया है। आम श्रद्धालु त्रिवेणी संग्रहालय (नंदी द्वार) और बड़ा गणेश मंंदिर के सामने से महाकाल लोक तक पहुंचेंगे।

यहां पर मुख्य प्रवेश द्वार बनाया गया है जहां से वे मंदिर में प्रवेश कर सकेंगे। ये नया फेसिलिटी सेंटर हैं। भगवान के दर्शन के बाद गेट नंबर 10 निर्गम द्वार से श्रद्धालु बाहर हो सकेंगे। श्री महाकाल लोक के लोकार्पण के बाद बुधवार सुबह से आम लोगों के लिए प्रवेश शुरू कर दिया गया।

इसके समय का भी मंदिर प्रशासन ने निर्धारण कर दिया है। सुबह 6 बजे से प्रवेश द्वार खुलेगा और रात्रि 10 बजे बंद होगा। इससे पहले रात्रि 8:30 बजे से लाइटें बंद होना शुरू हो जाएगी। महाकाल लोक में लगातार भीड़ बढ़ रही है।

प्रवेश से पहले की जा रही चैकिंग

Untitled design

बुधवार को श्री महाकाल लोक में भीड़ देखते हुए प्रवेश को लेकर सख्ती बरती जा रही है। कल मूर्ति शिल्प के प्लेटफार्म पर लोग जूते पहनकर चढ़ गए थे और लोग फोटों खिंचवा रहे थे। इसे लेकर मंदिर प्रशासन ने सख्ती दिखाई है।

सिक्यूरिटी को टाईट कर दिया है। प्रवेश से पहले चैकिंग की जा रही है। तंबाकू, गुटखा, सिगरेट, बीड़ी, माचिस आदि बाहर ही रखवाया जा रहा है। सुरक्षाकर्मियों की संख्या भी बढ़ा दी गई हैं। ईकार्ट अभी शुरू नहीं हुए। जल्द इन्हें शुरू किया जाएगा।

इस तरह की गई दर्शन व्यवस्था…..

आम श्रद्धालु त्रिवेणी संग्रहालय और बड़ा गणेश मंदिर से कॉरिडोर में आएंगे यहां पर नए फेसिलिटी सेंटर बनाया गया है। जहां पर मुख्य द्वार से मंंदिर के लिए प्रवेश कर सकेंगे।

लॉकर और जूता स्टेंड की व्यवस्था नए फेसिलिटी सेंटर में की गई है।

प्रवेश के बाद बेरिकेटिंग से होकर रेंप और पुराने फेसिलिटी सेंटर तक जाएंगे। यहां से फिर जिग्जेग से होकर कार्तिकेय मंडपम् से गणेश मंडपम् तक जा सकेंगे और भगवान के दर्शन करेंगे।

मंदिर में दर्शन के बाद गेट नंबर 10 निर्गम द्वार रहेगा। यहां से बाहर होने के बाद श्रद्धालु बड़ा गणेश और त्रिवेणी संग्रहालय दोनों ओर जा सकेंगे।

वीआईपी और शीघ्र दर्शन (250 और 1500 की रसीद) के लिए पूर्व की तरह गेट नंबर 4 और 5 से प्रवेश रहेगा।

Untitled design 1

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर