Wednesday, February 1, 2023
Homeउज्जैन समाचारघर पहुंची पुलिस से बच्चे बोले- पापा ऑफिस से नहीं लौटे... मोबाइल...

घर पहुंची पुलिस से बच्चे बोले- पापा ऑफिस से नहीं लौटे… मोबाइल भी स्वीच ऑफ है

पोहा फैक्ट्री के मालिक की तलाश

घर पहुंची पुलिस से बच्चे बोले- पापा ऑफिस से नहीं लौटे… मोबाइल भी स्वीच ऑफ है

एफएसएल अधिकारी करेंगी आग के कारणों की जांच

उज्जैन।नागझिरी स्थित बिंदल प्रोसेसिंग पोहा फैक्ट्री में पुलिस जांच के साथ पोहा फैक्ट्री मालिक की तलाश भी कर रही है। घटना के बाद से मालिक का कोई पता नहीं है। नागझिरी पुलिस फैक्ट्री मालिक के घर पहुंची तो उसके बच्चे बोले पापा ऑफिस से घर नहीं लौटे…मोबाइल भी स्वीच ऑफ है।

नागझिरी स्थित बिंदल प्रोसेसिंग पोहा फैक्ट्री में आग लगने के कारण तीन महिलाएं जिंदा जल गईं और एक गंभीर रूप से झुलसी थी। नागझिरी पुलिस ने मैनेजर की रिपोर्ट पर मर्ग कायम कर शवों का पीएम कराया और परिजनों को सौंपा। गुस्साये परिजनों ने शवों को सड़क पर रखकर चक्काजाम किया था। फैक्ट्री मालिक पर केस, मुआवजे की मांग की।

पोहा फैक्ट्री अग्निकांड में तीन महिलाओं की मृत्यु के बाद भी फैक्ट्री मालिक राकेश बिंदल, मैनेजर सागर यादव शवों के पोस्टमार्टम के समय जिला अस्पताल नहीं पहुंचे थे। उनकी तरफ से परिजनों से कोई संपर्क भी नहीं किया गया। दोषियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर मृतक महिलाओं के परिजनों ने आक्रोशित होकर शव को सड़क पर रखकर चक्काजाम किया था। एडीएम के आश्वासन पर मामला शांत हुआ।

अधिकारी ने कहा- जांच में प्रमाणिक तथ्य आने पर हो सकता है गैर इरादतन हत्या का केस]नागझिरी थाने के प्रभारी टीआई और पोहा फैक्ट्री अग्निकांड की जांच कर रहे उपनिरीक्षक लिबान कुजूर ने बताया कि फैक्ट्री मालिक राकेश बिंदल निवासी महाश्वेता नगर के घर पुलिस टीम गई थी। उनके बयान दर्ज करना थे। बच्चों ने बताया कि शुक्रवार से ही पापा ऑफिस से घर नहीं आये हैं।

उनका मोबाइल भी स्वीच ऑफ है। कुजूर ने बताया कि मैनेजर सागर यादव के बयान लेना हैं लेकिन वह भी नहीं मिल रहा। मृतक महिलाओं के परिजन घटना के दूसरे दिन आक्रोशित थे। शवों के अंतिम संस्कार में लगे थे। इस कारण उनके बयान दर्ज नहीं हो पाये। यदि मृतिकाओं के परिजन पोहा फैक्ट्री मालिक, मैनेजर के खिलाफ बयान देते हैं तो दोनों पर धारा 304 ए के तहत गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज हो सकता है।

यह हैं पुलिस जांच के मुख्य बिंदु

जांच अधिकारी उपनिरीक्षक लिबान कुजूर ने बताया कि पुलिस जांच के बिन्दु तय कर दिए गए है।

पुलिस द्वारा फैक्ट्री मालिक, मैनेजर और मृतिकाओं के परिजनों के अलावा यहां काम करने वाले कर्मचारियों के बयान दर्ज करेगी।

फैक्ट्री में किन कारणों के चलते आग लगी इसकी जांच एफएसएल टीम से कराई जायेगी।

आग बुझाने के यंत्र व अन्य संसाधन उपलब्ध थे कि नहीं इसकी भी जांच होगी।

फैक्ट्री में प्रवेश और निर्गम के कितने गेट हैं, किन कारणों से महिलाएं आग की चपेट में आईं।

फिलहाल पुलिस ने फैक्ट्री सील कर दी है। अब इसे पुलिस व एफएसएल टीम की मौजूदगी में खोला जायेगा।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर