Tuesday, February 7, 2023
Homeउज्जैन समाचारदशहरा मैदान पर स्टेडियम के नाम पर बनने वाली गैलेरी के खिलाफ...

दशहरा मैदान पर स्टेडियम के नाम पर बनने वाली गैलेरी के खिलाफ जनता ने खोला मोर्चा

रहवासी बोले- निर्णय बेहद गलत और अनावश्यक, हम योजना से सहमत नहीं…

उज्जैन।दशहरा मैदान में स्टेडियम निर्माण का भूमिपूजन हुए अभी 24 घंटे भी नहीं बीते है और क्षेत्र के रहवासियों ने स्टेडियम के नाम पर बन रही गैलेरी का विरोध कर दिया हैं। दशहरा मैदान रहवासी समिति ने सोशल मीडिया के माध्यम से इस योजना पर खुलकर नाराजगी जाहिर की है।

फेसबुक पर एक यूजर ने पोस्ट डालकर कहा है कि आदरणीय मुख्यमंत्री जी, उज्जैन कलेक्टर, नगर निगम और माननीय मंत्रीगण हम सभी दशहरा मैदान निवासी हैं, जो की 50-70 वर्षों से यहां निवासरत हैं।

यहां स्टेडियम निर्माण के लिए भूमिपूजन किया गया है। इसका टेंडर आदि भी हो चुका है। आने वाले साल में यह बनकर तैयार हो जाएगा। आदरणीय ये बेहद गंभीर और गलत निर्णय है, हम सब इसका खुलकर विरोध करते हैं। पोस्ट पर 100 से अधिक लाइक्स और कमेंट्स आ चुके हैं।

FACEBOOK पर शब्दों की गतिविधि…

दशहरा मैदान रहवासी समिति ने स्टेडियम निर्माण को लेकर ये सवाल खड़े किए…

यह उठे है सवाल…

शहर के बीचों-बीच मैदान को खत्म कर स्टेडियम बनाना सरासर गलत और अनावश्यक है। स्टेडियम इत्यादि हमेशा शहर के बाहर बनाये जाते हैं।

विकास प्राधिकरण के नियमानुसार रेसीडेंशियल कॉलोनी में खुले मैदान और पार्क का प्रावधान होता है ना की स्टेडियम का।

आप हमारे घरों के सामने बिना हमारी अनुमति के बाजारीकरण नहीं कर सकते।

शहर में आज तक जितने भी स्टेडियम बने उनका हालत आपके सामने है। क्षीरसागर स्टेडियम इसका बात का सबसे बड़ा उदाहरण है।

दशहरा मैदान में रिटायर्ड बुजुर्ग और बीमार लोग रहते हैं जो की शांति से अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं। यहां स्टेडियम बनने से रोज का नया तमाशा होगा।

प्रतिवर्ष सार्वजनिक दशहरा उत्सव रावण दहन के उपयोग में आ रहा है। कई सालों से उज्जैन की समस्त जनता इस दशहरा उत्सव का आनंद लेने आती है। ऐसी धार्मिक महत्ता के सार्वजनिक स्थान पर इस तरह का कोई भी निर्माण पूर्णत: अनुचित है।

प्रतिवर्ष राष्ट्रीय कार्यक्रम गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस का भी यहां भव्य आयोजन होता आया है। आम जानता भी बिना किसी रोक-टोक के इस खुले मैदान में इन कार्यक्रमो में भागीदार बन, इनका लुत्फ उठाती आयी है। स्टेडियम निर्माण के बाद यहां कई असुविधाएं उत्पन्न होगी।

यह कमेंट्स हुए पोस्ट

किसी की बुरी नजर पड़ गई हैं। इस मैदान की जमीन से माल कमाने की। कृपया स्टेडियम बनाकर दिखावा ना करें, अगर करना ही है तो खिलाडिय़ों को उनकी प्रतिभा प्रदर्शन के आधार पर अंतरराष्ट्रीय स्तर की तैयारी करवाने में पैसा खर्च करे। इससे उज्जैन शहर का नाम रोशन होगा। -सतीश शर्मा

बड़े-बड़े स्टेडियम बनाने से कुछ नहीं हासिल होगा। असल में जो सुविधा खिलाडिय़ों को मिलना चाहिए, इस बात पर कोई ध्यान नहीं देता। कभी नहीं देते । – नरेंद्र गिरजे

मैं भी दशहरा मैदान में स्टेडयम बनाने की बात से सहमत नहीं। ये एक मूर्खतापूर्ण निर्णय है।प्रकाश गोडबोले

दशहरा मैदान को स्टेडियम में तब्दील करने की सोच एक पागलपन के सिवा और कुछ नहीं है। -सुरेश परमार

उज्जैन में तो लगता हैं अंधेर नगरी चौपट राजा वाला हाल हैं । पुराने कामों पर ध्यान नहीं देते और नए की बात करते हैं । सब कमीशन बाजी हैं । बाबा महाकाल इनको सदबुद्धि दे। -दिलीप पंवार

स्टेडियम के नाम पर नानाखेड़ा मैदान की क्या हालत है वो किसी से छुपी नही है । यहां अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट स्टेडियम बनेगा, ये सुविधा होगी, वो सुविधा होगी ।-सिद्धार्थ शाह

दशहरा मैदान जैसे रहवासी क्षेत्र में इस प्रकार के निर्माण का निर्णय ही गलत है, यह निर्माण नहीं होना चाहिए।-वर्षा जोशी

(इन सभी कमेंट्स के स्क्रीन शॉट अक्षरविश्व के पास सुरक्षित रखे है)

सोशल मीडिया पर आने वाले सभी कमेंट्स के स्क्रीन शॉट अक्षर विश्व के पास सुरक्षित है।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर