Sunday, January 29, 2023
Homeधर्मं/ज्योतिषनवरात्रि का पांचवा दिन: नवरात्रि में पांचवें दिन मां स्कंदमाता की पूजा...

नवरात्रि का पांचवा दिन: नवरात्रि में पांचवें दिन मां स्कंदमाता की पूजा विधि

नवरात्रि के पांचवें दिन मां दुर्गा के नौ रूपों में से एक मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है देवी दुर्गा का पांचवां रूप भगवान कार्तिकेय की माता है, जिन्हें स्कंद भी कहा जाता है। जब देवी पार्वती भगवान स्कंद की माँ बनीं, तो माता पार्वती को स्कंदमाता देवी के रूप में जाना जाता था। देवी स्कंदमाता को प्रेम और मातृत्व की देवी माना जाता है। उनका रंग शुभ्रा है, जो शुद्ध सफेद है।

‘स्कंद’ शब्द भगवान कार्तिकेय से भी जुड़ा है, और माता का अर्थ है माता। इसलिए, उन्हें भगवान कार्तिकेय या स्कंद की माँ के रूप में जाना जाता है। स्कंदमाता देवी उनकी देखभाल करती हैं और उनकी पूजा करती हैं, एक भक्त एक उपलब्धि प्राप्त करने वाला, समृद्ध और एक संतुष्ट जीवन जी सकता है।

ऐसा है मां का स्वरूप

सिंह पर सवार देवी स्कंदमाता की चार भुजाएं हैं। उनकी गोद में उनका पुत्र स्कंद अर्थात कार्तिकेय विराजमान हैं। वह एक हाथ में कमल धारण करती है। उनकी बाईं ओर की ऊपरी भुजा को वरमुद्र कहा जाता है और नीचे सफेद रंग का दूसरा कमल का फूल है। कमल पर आसन होने के कारण इन्हें पद्मासन के नाम से भी जाना जाता है।

ऐसा माना जाता है कि अगर कोई जातक भक्ति के साथ देवी स्कंदमाता की पूजा करता है तो ज्ञान बढ़ता है। यही कारण है कि उन्हें विद्यावाहिनी दुर्गा के नाम से भी जाना जाता है।स्कंदमाता अपने भक्तों को मोक्ष, शक्ति, समृद्धि और खजाने से पुरस्कृत करती हैं। ऐसा माना जाता है कि वह अधिकांश अनपढ़ लोगों को भी ज्ञान का सागर प्रदान कर सकती है।

ऐसे करें माँ स्कंदमाता पूजा

माता स्कंदमाता की तस्वीर/मूर्ति को पहले स्थापित करना चाहिए और बाद में गंगाजल या गोमूत्र से साफ करना चाहिए। पीतल या बालू का बना बर्तन रखें और उसके ऊपर नारियल रखें। एक ही मेज पर भगवान गणेश, भगवान वरुण, नवग्रह, षोडश मातृका (16 देवी) और सप्त घृत मातृका (सात सिंदूर बिंदु लगाएं) रखें।

उसके बाद दूध, फल, फूल, सिंदूर, रोली, देवी के कपड़े और अन्य श्रंगार जैसी वस्तुओं का उपयोग करके पूजा करें। पूजा करें और गंधम, पुष्पम, दीपम, सुगंधम और नैवेद्यम अर्पित करें। उसे केला या कोई अन्य फल चढ़ाएं और पूजा के दौरान देवी को छह इलायची भी चढ़ाएं। इसे बाद में प्रसाद के रूप में बांटें। आरती कर पूजा संपन्न करें।

मां स्कंदमाता की कथा

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार तारकासुर नाम का एक राक्षस था, जिसकी मृत्यु शिव के पुत्र से ही संभव थी। माता पार्वती ने तब अपने पुत्र भगवान स्कंद (कार्तिकेय का दूसरा नाम) को युद्ध के लिए प्रशिक्षित करने के लिए स्कंद माता का रूप धारण किया। उन्होंने भगवान स्कंद को युद्ध के लिए प्रशिक्षित किया था। कहा जाता है कि स्कंदमाता से युद्ध का प्रशिक्षण लेने के बाद भगवान स्कंद ने तारकासुर का वध किया था। स्कंदमाता, हिमालय की पुत्री पार्वती हैं। इन्हें माहेश्वरी और गौरी के नाम से भी जाना जाता है।

पर्वत राज हिमालय की पुत्री होने के कारण पार्वती कही जाती हैं। इसके अलावा महादेव की पत्नी होने के कारण इन्हें माहेश्वरी नाम दिया गया और अपने गौर वर्ण के कारण गौरी कही जाती हैं। माता को अपने पुत्र से अति प्रेम है। यही कारण है कि मां को अपने पुत्र के नाम से पुकारा जाना उत्तम लगता है। मान्यता है कि स्कंदमाता की कथा पढ़ने या सुनने वाले भक्तों को मां संतान सुख और सुख-संपत्ति प्राप्त होने का वरदान देती हैं।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर