Wednesday, May 18, 2022
Homeउज्जैनउज्जैन:स्मार्ट मीटर लगाने के लिए प्रेरित करने पहुंचे बिजली कंपनी के जेई...

उज्जैन:स्मार्ट मीटर लगाने के लिए प्रेरित करने पहुंचे बिजली कंपनी के जेई और एई से उपभोक्ता बोले…

मीटर की स्मार्टनेस सिर्फ बिजली विभाग के लिए…

एक दिन की खपत देख सकते हंै उपभोक्ता

उज्जैन। इंडियन पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा शहर में स्मार्ट मीटर लगाने का काम किया जा रहा है, जिसे जल्द पूरा करवाने के लिए बिजली कंपनी के जेई और एई लेवल के अधिकारी भी कंपनी का सहयोग कर रहे है। वे स्मार्ट मीटर लगवाने के लिए लोगों को प्रेरित कर उसकी सुविधाएं बता रहे हैं।

इसी कड़ी में छत्रीचौक जोन अंतर्गत आने वाले क्षेत्र मिल्कीपुरा में स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं के यहां प्रतिस्थापित करने हेतु जोन प्रभारी रिजवान खान द्वारा मिल्कीपुरा क्षेत्र के रहवासी को स्मार्ट मीटर के फायदे बताए गए तथा स्मार्ट मीटर लगाने हेतु प्रेरित किया गया। इस दौरान हाफिज कमरुद्दीन, अतीक खान, मोहम्मद इलियास, साबिर भारती, जुबेर, सुमित आर्य, रवि अवस्थी, इकबाल खान राहिल कुरैशी, गजेंद्र इत्यादि लोग मौजूद रहे। तत्पश्चात मिल्कीपुर क्षेत्र अंतर्गत 350 स्मार्ट मीटर स्थापित किए गए। फिलहाल शहर भर में कंपनी को 1 लाख 27 हजार स्मार्ट मीटर लगाने का टारगेट मिला है, जिसमें से केवल 20 फीसदी उपभोक्ताओं के यहां स्मार्ट मीटर लगाए गए है।

इन क्षेत्रों में उपभोक्ताओं ने जताई नाराजगी

क्षीरसागर और फ्रीगंज जैसे क्षेत्र में उपभोक्ताओं के दृष्टिकोण से स्मार्ट मीटर फायदेमंद नहीं है, बिजली महकमे के दृष्टिकोण से इसमें फायदे ही फायदे हैं। जैसे उपभोक्ता के घर बिना जाए बकाए पर कनेक्शन काटना, बैठे-बैठे सर्वर रूम से मीटर रीडिंग ले लेना। इसके अलावा उपभोक्ता अपने निर्धारित लोड से अगर थोड़ा भी ज्यादा इस्तेमाल करता है तो लाइट का ट्रिप हो जाना। उपभोक्ताओं के दृष्टिकोण से इनमें कोई फायदा नहीं है। क्योंकि उपभोक्ता को बिजली पहले भी नहीं मिल रही थी और अभी भी, स्मार्ट मीटर लगने से बिजली का जाना कम तो हुआ नहीं।

मोबाइल से जुड़ा है स्मार्ट मीटर

उपभोक्ता ऊर्जस पोर्टल से स्मार्ट मीटर की खपत देख सकते हैं इसके लिए प्ले स्टोर से ऊर्जस ऐप डाउनलोड करना होगा जिसमें स्मार्ट मीटर खपत देखने का ऑप्शन दिया गया है। छत्रीचौक जोन के अधिकारी रिजवान खान द्वारा स्मार्ट मीटर का डेमोंस्ट्रेशन के दौरान स्मार्ट मीटर के साथ अन्य मीटर को सिरीज में लगा कर 2 किलो वाट के हीटर का भार चलाया गया। करीब आधे घंटे के बाद दोनों मीटर की खपत की गणना कर उपभोक्ताओं को स्मार्ट मीटर की शुद्धता के बारे में जानकारी दी।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर