Saturday, January 28, 2023
Homeउज्जैन समाचारकनेक्शन काटने के फर्जी कॉल्स, MMS से विद्युत कंपनी को जैसे कोई...

कनेक्शन काटने के फर्जी कॉल्स, MMS से विद्युत कंपनी को जैसे कोई मतलब ही नहीं

शहर में सायबर ठगी के कई मामले हुए, प्रकरण दर्ज करवाने में अधिकारियों की रूचि नहीं….

उज्जैन।सायबर ठगों द्वारा शहर के विद्युत उपभोक्ताओं को मोबाइल पर बिजली के कनेक्शन काटने की धमकी भरे कॉल्स, एसएमएस लगातार भेजे जा रहे हैं। बावजूद विद्युत कंपनी के अधिकारियों द्वारा इस पर रोक लगाने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है।

खास बात यह है कि उज्जैन में अब तक विद्युत कनेक्शन काटने के नाम पर २५ से ज्यादा लोग के साथ सायबर ठगी हो चुकी है, पर कंपनी द्वारा एक भी मामले में प्रकरण तक दर्ज नहीं करवाया गया है। इधर विद्युत कंपनी के अधिकारियों के ढीले रवैये के कारण पुलिस भी सक्रियता नहीं दिखा रही है।

बता दें कि एक तरफ तो विद्युत कंपनी अपनी समस्त सेवाओं को ऑनलाइन कर रही है, तो दूसरी तरफ उपभोक्ता ऑनलाइन ठगी के शिकार हो रहे हंै। केवल उपभोक्ताओं को सतर्क रहने की सलाह दी जा रही हैं। कंपनी ने इस संबंध में अपनी ओर से कोई कार्रवाई करना तो दूर अभी तक पुलिस सायबर सेल को पत्र तक नहीं लिखा है।

कंपनी ने की केवल सतर्क रहने की अपील

इस तरह की शिकायत मिलने के बाद कंपनी के अधिकारियों के जरिए जोन स्तर पर व्हाट्स नंबर पर ही लोगों से सजग रहने की अपील की गई है। अगर आपको इस तरह का मैसेज आता है तो तत्काल इसकी सूचना संबंधित जोन कार्यालय पर दें। विद्युत कंपनी केवल बिल लम्बित होने के बारे में ही सूचना देता है, ना कि कनेक्शन काटने की चेतावनी देता है। साथ ही किसी नम्बर विशेष पर संपर्क करने को भी नहीं कहा जाता है। बिजली बिल को लेकर संशय होने पर नजदीकी विद्युत कार्यालय पर संपर्क करें। इस तरह के मैसेज की लिंक पर क्लिक नहीं करें।

अभी तक कोई पत्र नहीं आया

वैसे इस तरह के मामलों में पीडि़त पक्ष पुलिस में प्रकरण दर्ज करवाते ही हैं। चूंकि क्राइम बिजली कंपनी की सेवाओं के नाम से किया जा रहा है तो कंपनी के अधिकारियों को भी इस संबंध में लिखित शिकायत करनी चाहिए, लेकिन अभी तक विद्युत कंपनी की ओर से कोई पत्र नहीं आया है।
विनोद कुमार मीणा, सीएसपी उज्जैन

इनका कहना है

मेरी जानकारी में अभी तक इस प्रकार का एक भी मामला सामने नहीं आया है। अब कोई घटना घटित होती है तो प्रकरण दर्ज करवाया जाएगा। राजेश हारोड, कार्यपालन यंत्री, विद्युत कंपनी

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर