Monday, November 28, 2022
HomeAV साहित्यदेश पे वारा

देश पे वारा

सरहद के प्रहरी ने अपने,
प्राणों को देश पे वारा।
चाहे दिन हो चाहे रात,
हर पल अपना देश पे वारा।।
देश में विपदा आई तो,
चिकित्सक ही वरदान बने।
जीवन के इस महायुद्ध में,
वे ही तो भगवान बने।।
महामारी में पुलिस की सेवा,
मानवता का सार हुई।
सफाईकर्मी के दायित्व से,
प्रकृति भी साकार हुई।।
कोरोनो से उभरेंगे हम,
हमने मन में ठानी है ।
चाहे कोई भी संकट हो,
भारत ने हार न मानी है।

डॉ. अर्चना बापना, उज्जैन

जरूर पढ़ें
spot_img

मोस्ट पॉपुलर