Tuesday, November 29, 2022
HomeAV साहित्यनहले पर दहला

नहले पर दहला

एक दिन मेरे पास बैंक वालों का फोन आया

आपने जो लोन लिया था उसका ब्याज नहीं चुकाया

हमने कहा- भाई साहब! इतना मतचीखों

मोदी जी की बात सुनो

और आत्मनिर्भर बनना सीखो

-सौरभ चातक

जरूर पढ़ें
spot_img

मोस्ट पॉपुलर