Saturday, January 28, 2023
Homeदेशबेनामी संपत्ति के मामले में अब नहीं जाना होगा जेल, Supreme Court...

बेनामी संपत्ति के मामले में अब नहीं जाना होगा जेल, Supreme Court का बड़ा फैसला

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि बेनामी लेनदेन (निषेध) अधिनियम, 1988 की धारा 3 (2) असंवैधानिक है और कहा कि उक्त अधिनियम के 2016 के संशोधन का “पूर्वव्यापी प्रभाव” नहीं है।

धारा 3(2) बताती है कि जो कोई भी किसी भी बेनामी लेनदेन में प्रवेश करता है, उसे एक अवधि के लिए कारावास, जिसे तीन साल तक बढ़ाया जा सकता है या जुर्माना या दोनों से दंडित किया जा सकता है। “हम 1988 की धारा 3 (2) को असंवैधानिक मानते हैं”, सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया और कहा कि इस तरह के जबरदस्ती के प्रावधान का पूर्वव्यापी प्रभाव नहीं हो सकता है।

भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि 1988 के अधिनियम में 2016 का संशोधन प्रकृति में संभावित है और यह पूर्वव्यापी रूप से लागू नहीं हो सकता है। कमिटी ने कहा कि संशोधन को केवल प्रक्रियात्मक नहीं माना जा सकता।

आदेश की पूरी प्रति दिन में बाद में प्रकाशित की जाएगी।संशोधन ने बेनामी लेनदेन के लिए सजा को तीन साल से बढ़ाकर सात साल कर दिया, और जुर्माना जो बेनामी संपत्ति के उचित बाजार मूल्य का 25 प्रतिशत तक हो सकता है।

शीर्ष अदालत का फैसला केंद्र सरकार द्वारा कलकत्ता उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दायर एक याचिका पर आया, जिसमें कहा गया था कि 2016 का संशोधन अधिनियम प्रकृति में संभावित था।

बेनामी संपत्ति वह प्रोपर्टी है जिसकी कीमत किसी और ने चुकाई तो लेकिन उनका मालिक कोई और हो. आसान भाषा में समझें तो अगर आपने अपने किसी जानकार या रिश्तेदार से पैसे लेकर कोई संपत्ति खरीदी है तो उसे ‘बेनामदार’ कहा जाता है.

यह संपत्त‍ि पत्नी, बच्चों या किसी रिश्तेदार के नाम पर भी खरीदी गई होती है. जिसके नाम पर इस संपत्ति को लिया गया होता है वो केवल इसका नाममात्र का मालिक होता है जबकि असल हक उसी व्यक्ति का होता है, जिसने उस संपत्ति के लिए पैसे चुकाए होते हैं. इसका इस्तेमाल लोग काला धन छुपाने के लिए करते हैं.

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर