Monday, December 11, 2023
Homeउज्जैन समाचारभगवान महाकालेश्वर के 10 स्वरूप में दर्शन, प्रशासन की व्यापक तैयारियां

भगवान महाकालेश्वर के 10 स्वरूप में दर्शन, प्रशासन की व्यापक तैयारियां

शाही सवारी कल, मार्ग पर आकर्षक साज-सज्जा, 70 से अधिक भजन मंडलियां शामिल होंगी

भगवान महाकालेश्वर के 10 स्वरूप में दर्शन, प्रशासन की व्यापक तैयारियां

अक्षरविश्व न्यूज . उज्जैन:भादौ मास के कल दूसरे सोमवार पर भगवान महाकालेश्वर की शाही सवारी निकलेगी। शाही सवारी भगवान महाकाल दस रूप में अपने भक्तों को दर्शन देंगे। प्रशासन द्वारा सवारी के लिए व्यापक इंतजाम किए जा रहे है।

भगवान महाकाल इस वर्ष अधिकमास के चलते दसवीं बार नगर भ्रमण पर निकलेगें। इस सवारी का शाही स्वरूप होगा। शाही सवारी के करीब 7 किलोमीटर लम्बे मार्ग को दुल्हन की तरह सजाया जाएगा। प्रशासन ने सवारी मार्ग पर सुरक्षा और व्यवस्था के लिए अन्य शहरों से भी पुलिस बल बुलवाया है।

सवारी निकलने के पूर्व यातायात भी डायवर्ट किया जाएगा। महाकाल मंदिर में दोपहर 3.30 बजे सभा मंडप में शाही सवारी की परंपरा अनुसार भगवान महाकाल के चंद्रमौलेश्वर व मनमहेश स्वरूप का पूजन किया जाएगा। शाही सवारी में भगवान महाकाल के दस स्वरूप रहेंगे। जिसमें चांदी की पालकी में श्री चन्द्रमौलेश्वर, हाथी पर श्री मनमहेश, गरुड़ रथ पर शिवतांडव, नन्दी रथ पर उमा-महेश और डोल रथ पर होल्कर स्टेट के मुखारविंद श्री घटाटोप, रथ पर श्री जटाशंकर, श्री रुद्रेश्वर स्वरूप, श्री चन्द्रशेखर स्वरुप व श्री सप्तधान का मुखारविंद सम्मिलित रहेगा।

पालकी रात 10.30 बजे तक मंदिर पहुंचाने का लक्ष्य

शाही सवारी के लिए पुलिस कंट्रोल रूम आयोजित बैठक में पॉवर पाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से शाही सवारी के मार्ग, शाही सवारी के क्रम, सवारी में शामिल होने वाली भजन मंडली, स्थापित किए जाने वाले स्वागत मंच और बैंड की जानकारी दी गई। बैठक में सुझाव दिए गए कि शाही सवारी में छोटे बच्चे प्रतीकात्मक स्वरूप पालकी लेकर नहीं आएं। सवारी के दौरान भगवान की पालकी पर पुष्पवर्षा की जाए परंतु आर्टिफिशियल कागज और पॉलीथीन के रंग-बिरंगे फूलों को उड़ाने से रोका जाए। पालकी की सुरक्षा के लिए रस्से की डिजाइन दो लेयर में रहेगी पीडब्ल्यूडी को पर्याप्त बैरिकेडिंग करने पर जोर दिया।

दोप. 12 बजे से 21 मार्ग वाहनों के लिए रहेंगे प्रतिबंधित

शाही सवारी के मद्देनजर यातायात विभाग ने ट्रैफिक प्लान तैयार कर लिया है। इसके हिसाब से शहर में दोप. 12 बजे से ही 21 मार्गों पर सभी प्रकार के वाहन प्रतिबंधित हो जाएंगे। पुलिस ने शहर की चारों दिशाओं से शहर पहुंचने वाले श्रद्धालुओं के वाहनों के लिए चार पार्किंग स्थल भी नियत किए हैं। जहां छोटे-बड़े सभी प्रकार के वाहन पार्क हो सकेंगे। इसके अलावा जरूरत के लिहाज से 10 आकस्मिक निकासी मार्ग भी तय किए हैं।

यहां पार्किंग

इंदौर रोड, मक्सी रोड और देवास रोड, हरिफाटक ब्रिज के नीचे, मन्नत गार्डन की पार्किंग और हरिफाटक चौराहा से जंतर-मंतर होकर लालपुल के नीचे से कर्कराज, ठाकुर भील समाज पार्किंग में वाहन पार्क हो सकेंगे।

आगर रोड : मकोडिय़ा आम चौराहे से होकर खाक चौक, पिपलीनाका, चक्रतीर्थ टर्निंग होकर शंकराचार्य चौराहे के पास कार्तिक मेला ग्राउंड में पार्क हो सकेंगे। द्द उन्हेल रोड : भैरवगढ़, पीपलीनाका, चक्रतीर्थ से होकर शंकराचार्य चौराहे के पास कार्तिक मेला ग्राउंड में पार्क हो सकेंगे। द्द बडऩगर रोड: मुल्लापुरा से होकर शंकराचार्य चौराहे के पास कार्तिक मेला ग्राउंड में पार्क हो सकेंगे। (बस-ट्रैक्टर कार्तिक मेला ग्राउंड में ही पार्क होंगे।

यह मार्ग प्रतिबंधित

हरिफाटक ब्रिज से बेगमबाग जाने वाले, बेगमबाग टर्निंग से यादव धर्मशाला, सीमेंटेड मार्ग से भारत माता मंदिर, जयसिंहपुरा मार्ग से चारधाम, दानीगेट से रामानुजकोट , गुदरी चौराहा से कहारवाड़ी, गोपाल मंदिर से गुदरी चौराहा, तेलीवाड़ा से कमरी मार्ग, कंठाल से तेलीवाड़ा, छत्रीचौक से कंठाल, बियाबानी से तेलीवाड़ा, निकास चौराहा से तेलीवाड़ा, नरेंद्र टॉकीज से कंठाल, भार्गव तिराहा से टंकी चौक, केडी गेट से कमरी मार्ग, चक्रतीर्थ टर्निंग से दानीगेट, शंकराचार्य चौराहा से दानीगेट, तोपखाना से लोहे का पुल तथा गदा पुलिया से इंटर पिटीशन तरफ आने वाले मार्ग प्रतिबंधित रहेंगे।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर