Sunday, February 5, 2023
Homeउज्जैन समाचारविक्रम विवि के कन्या छात्रावास में मचा हंगामा, अधिकारियों ने किया निरीक्षण…

विक्रम विवि के कन्या छात्रावास में मचा हंगामा, अधिकारियों ने किया निरीक्षण…

कुछ लोग बिना सूचना के पहुंच गए थे

उज्जैन। विक्रम विश्वविद्यालय के कन्या छात्रावास में शुक्रवार की शाम को छात्राओं ने हंगामा मचा दिया। छात्रावास की ऊपरी मंजिल पर कुछ लोग बिना सूचना के पहुंच गए थे। इस पर छात्राओं ने आपत्ति ली और शिकायत विवि अधिकारियों को कर दी। विवि प्रशासन के अधिकारी पहुंचे और निरीक्षण किया। इस संबंध में कलेक्टर को भी अवगत करवाया जा रहा है।

विक्रम वाटिका के सामने विक्रम विश्वविद्यालय का रमाबाई कन्या छात्रावास हैं। यहां रहने वाली विवि की छात्राओं ने छात्रावास भवन के ऊपरी हिस्से में कुछ लोगों के होने जानकारी विवि प्रशासन को दी। इसके बाद विवि के विद्यार्थी कल्याण संकायाध्यक्ष डॉ.एसके मिश्रा व अन्य अधिकारी छात्रावास पहुंचे थे। विवि के छात्रावास की तीसरी मंजिल पर आदिमजाति कल्याण विभाग की 60 छात्राएं रहती हैं।

आदिम जाति कल्याण विभाग के चार-पांच लोग छात्रावास का निरीक्षण करने आए थे। इस बात की जानकारी विवि छात्रावास की छात्राओं को नहीं थी जबकि नियमानुसार पूर्व में सूचना दी जाना चाहिए थी और विवि अधिकारियों की उपस्थिति में प्रवेश करना था। इसी बात को लेकर हंगामा हुआ। छात्रावास के वार्डन को भी जानकारी नहीं थी।

कुछ कमरे आदिम जाति कल्याण विभाग को दिए थे

विक्रम विद्यालय के रमाबाई कन्या छात्रावास में अजाक की छात्राओं को ठहराने के लिए 15 कमरे वर्ष 2017 में लिए गए थे। इसके बाद विभाग ने छात्रावास खाली नहीं किया। इस संबंध में विश्वविद्यालय प्रशासन ने कई बार अजाक विभाग को पत्र भी लिखा। हालांकि अजाक विभाग ने भी छात्रावास खाली करने को लेकर पत्र विभाग को लिखा था। बिना सूचना कन्या छात्रावास में प्रवेश के मामले में विवि प्रशासन कलेक्टर को शिकायत करेगा।

विभाग को पूर्व में खाली करने के लिए पत्र दिया था

इस मामले में कुलपति प्रो. अखिलेश कुमार पांडे ने कहना है कि रमाबाई छात्रावास की ऊपरी विंग को खाली करने के संबंध में आदिमजाति कल्याण विभाग को पूर्व में पत्र दिया गया था। लेकिन अब तक खाली नहीं किया गया है। विवि में लगातार विद्यार्थियों की संख्या बढ़ रही हैं। इसलिए विभाग से खाली करने के लिए कई बार कह चुके हैं।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर