Monday, January 30, 2023
Homeउज्जैन समाचारसिम कार्ड अपग्रेड की आड़ में ठगी का नया तरीका

सिम कार्ड अपग्रेड की आड़ में ठगी का नया तरीका

5 जी नेटवर्क के लिए मैसेज आए तो रहें सावधान…..

उज्जैन। सायबर क्राइम करने वालों ने सिम कार्ड अपग्रेड की आड़ में ठगी का नया तरीका निकाला है। 5 जी नेटवर्क के लिए सिम कार्ड अपग्रेड करने का कोई मैसेज या फोन आए तो सावधान रहें। अपनी जानकारी शेयर नहीं करें। ओटीपी नंबर नहीं बताए। अनजान लिंक को खोले नहीं।

मोबाइल नेटवर्क प्रदाता कंपनी जियो ने प्रदेश में महाकाल महालोक के बाद इंदौर- भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर में 5 जी सेवा शुरू कर दी है। इस सेवा को हासिल करने के लिए मोबाइल उपभोक्ताओं के मन में तमाम जिज्ञासाएं हैं। सायबर ठग इसका फायदा उठाने की फिराक में है।

जानकारों के अनुसार मोबाइल उपभोक्ताओं जब तक कंपनी के अधिकृत नंबर से सिम अपग्रेड करने के लिए कोई मैसज या काल न आए तब तक कोई रिस्पांस न दें। सायबर ठग फिशिंग लिंक के जरिए आपको अपना शिकार बना सकते हैं। अगर आपके साथ ऐसी कोई घटना हो तो तत्काल पुलिस की मदद लें। ऐसी किसी लिंक पर क्लिक करते ही आपका खाता खाली हो सकता है। हालांकि उज्जैन में इस तरह की ठगी की घटना अभी तक नहीं हुई, लेकिन लोगों के पास ऐसे फोन आने लगे है।

अपने मोबाइल फोन में 5जी सेवा शुरू करने के लिए ये करें

जानकारों के अनुसार आप सबसे पहले अपने मोबाइल फोन की सेटिंग में जाएं, फिर साफ्टवेयर अपडेट पर जाकर अपने डिवाइस के नवीनतम साफ्टवेयर का अपडेट करें। उसके बाद फिर सेटिंग में जाने के बाद कनेक्शन में जाएं, उसके बाद मोबाइल नेटवर्क में जाएं, फिर सिम पर क्लिक करें, उसके बाद नेटवर्क टाइप 5जी पर जाकर अपने हैंडसेट पर 5जी नेटवर्क का चयन करें।

विशेषज्ञों का कहना है कि सिम को अपग्रेड करने के अलावा एक विकल्प यह भी है कि 5जी मोबाइल उपलब्ध है लेकिन इसमें अन्य सिम मसलन 2जी, 3जी, 4जी सिम का उपयोग दिक्कत देता है।

ऐसे हो सकती ठगी…

  • लोगों के मोबाइल पर एसएमएस के जरिये मैसेज भेजे जाते हैं, यह नंबर कई बार कंपनी के नाम से ही भेजे जाते हैं और इसमें दी गई लिंक पर क्लिक करते ही मोबाइल हैक हो जाता है। इसके बाद मोबाइल में पे-वालेट के जरिये या फिर सीधे खाते से ही ठग रुपए निकाल लेते हैं।
  • कई बार ठग फोन करके आपकी पूरी जानकारी हासिल कर लेते हैं। सिम अपग्रेड करने का झांसा देकर आधार कार्ड नंबर व अन्य जानकारी लेकर फिसिंग लिंक भेजते हैं और इस पर क्लिक कर पूरी जानकारी भरने के लिए बोलते हैं। इस लिंक पर क्लिक करते ही मोबाइल हैक हो जाता है।
  • ठग रिमोट लागइन एप क्विक सपोर्ट, एनीडेस्क, टीम व्यूअर, अल्ट्रा व्यूअर की लिंक आपके मोबाइल पर भेजकर यह मैसेज भेजते हैं कि इस एप को डाउनलोड करने के बाद सिम अपग्रेड हो जाएगी। इस पर क्लिक करते ही हैकर आपके फोन को अपने नियंत्रण में लेकर इसका इस्तेमाल करते हैं।
  • कुछ ठग सिम अपग्रेड कराने का झांसा देकर ओटीपी पूछकर ठगी करते हैं। ओटीपी पूछकर खाता खाली कर देते हैं। इसी तरह ठग सिम अपग्रेड के नाम पर नेटवर्क आपरेटर कंपनी का कर्मचारी बनकर फोन ठग फोन करते हैं और केवायसी अपडेट कर 5जी सिम अपग्रेड कराने का झांसा देते हैं।
जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर