Monday, January 30, 2023
Homeधर्मं/ज्योतिषKrishna Janmashtami पर जरूर करे ये काम

Krishna Janmashtami पर जरूर करे ये काम

हिंदू धर्म में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार बड़े धूमधाम से मनाया जाता है. इस दिन भक्त व्रत रखते हैं और भगवान कृष्ण की पूजा करते हैं. पंचांग के अनुसार, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी हर साल भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है.

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कृष्ण का जन्म मध्य रात्रि में हुआ था. इस लिहाज से कुछ लोग श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 18 अगस्त को मनाएंगे, वहीं उदया तिथि की गणना के अनुसार 19 अगस्त को जन्माष्टमी मनाना भी उत्तम है.जन्माष्टमी के दिन श्रीकृष्ण का आशीर्वाद प्राप्त करने और घर पर सुख-समृद्धि बनाए रखने के लिए श्रीकृष्ण से जुड़ी पांच चीजों की खरीदारी जरूर करनी चाहिए। जन्माष्टमी के दिन इन चीजों को घर लाने से बरकत बनी रहती है।

जन्माष्टमी के दिन जरूर खरीदें ये चीजें

मोरपंख-

भगवान श्रीकृष्ण को मोर पंख अतिप्रिय है। कृष्ण अपने मुकुट पर हमेशा मोर पंख लगाते थे। वास्तु के अनुसार मोरपंख सकारात्मक ऊर्जा को अपनी और आकर्षित करता है और इससे वास्तु दोष दूर होते हैं। मान्यता है कि जन्माष्टमी के दिन मोरपंख घर पर लाने से गृहक्लेश नहीं होते और कालसर्प दोष से भी मुक्ति मिलती है।

बांसुरी-

बांसुरी भगवान श्रीकृष्ण के प्रिय चीजों में एक है। बांसुरी से प्रेम होने के कारण ही श्रीकृष्ण का एक नाम बंशीधर भी है। बांसुरी के बिना कृष्ण की कल्पना भी नहीं की जा सकती। जन्माष्टमी के दिन आप लकड़ी या चांदी की छोटी सी बांसुरी जरूर खरीदें। इसे पूजा में श्रीकृष्ण को जरुर चढ़ाएं और इसके बाद बांसुरी को धन के स्थान या फिर तिजोरी में रख दें। इससे घर पर बरकत बनी रहती है।

गाय-बछड़ा-

भगवान श्रीकृष्ण को गाय से बेहद लगाव था। श्रीकृष्ण की कई तस्वीरों में वे गाय के पास खड़े होकर बांसुरी बजाते हुए नजर आते हैं। ज्योतिष के अनुसार गाय के भीतर गुरु ग्रह का वास होता है। जन्माष्टमी के दिन गाय और बछड़े की छोटी-सी प्रतिमा खरीदनीा चाहिए। इसे घर के मंदिर या कमरे के ईशान कोण में रखें। इससे भाग्य में वृद्धि होती है और संतान की भी प्राप्ति होती है।

वैजयंती माला-

भगवान श्रीकृष्ण हमेशा ही वैजयंती माला धारण किए हुए होते हैं। जन्माष्टमी के दिन वैजयंती माला घर लाने से आर्थिक स्थिति मजबूत होती है। माना जाता है कि वैजयंती माला में माता लक्ष्मी का वास होता है।

घर में 56 तरह के भोग बनाना काफी मुश्किल हो सकता है। ऐसे में आज हम आपको बताते हैं जो कान्हा जी को अति प्रिय है और आप इसका भोग इन्हें लगा सकते हैं…

माखन मिश्री

लड्डू गोपाल को माखन मिश्री सबसे ज्यादा प्रिय होता है। बचपन में अपनी मां यशोदा से छुप-छुप कर वह माखन मिश्री चुराकर खूब खाया करते थे। ऐसे में आप घर पर ताजी मलाई से मक्खन निकालकर मिश्री के साथ मिलाकर इसका भोग लड्डू गोपाल को लगा सकते हैं। इसमें तुलसी का पत्ता डालना ना भूलें। इससे भगवान का प्रसाद पूरा होता है।

धनिया की पंजीरी

श्री कृष्ण के जन्म के बाद उन्हें धनिया की पंजीरी का भोग भी लगाया जाता है। इसके लिए आप धनिया पाउडर को घी के साथ अच्छी तरह से भून लें। इसमें बादाम, किशमिश, काजू और मिश्री मिलाकर इसका प्रसाद उन्हें अर्पित करें।

मखाना

मखाने से बनी चीजें भी भगवान श्री कृष्ण को बहुत पसंद आती है। खासतौर पर जन्माष्टमी पर मखाने की खीर या फिर मखाना पाग का भोग जरूर लगाया जाता है। इसे बनाने के लिए आप मखाने को घी में भून लें। इसे दूध और चीनी के साथ पकाकर आप मखाना पाग बना सकते हैं।

खीरा

जन्माष्टमी की पूजा के दौरान भगवान श्री कृष्ण को खीरा भी चढ़ाया जाता है। इतना ही नहीं शालीग्राम के रूप में जब भगवान श्री कृष्ण का जन्म होता है तो उन्हें खीरे के अंदर से ही बाहर निकाला जाता है। ऐसे में जन्माष्टमी पर खीरा चढ़ाने का विशेष महत्व होता है।

पंचामृत

कान्हा जी की पूजा पंचामृत के बिना पूरी नहीं मानी जाती है। ऐसे में भगवान श्रीकृष्ण को भले ही कोई भी भोग क्यों ना लगाए लेकिन पंचामृत जरूर उन्हें अर्पित करें। इसमें दूध, दही, घी, तुलसी के पत्ते, गंगाजल और शहद इन चीजों को मिलाकर पंचामृत तैयार किया जाता है।

लड्डू

कान्हा जी का नाम तो खुद ही लड्डू गोपाल है। उन्हें लड्डू अति प्रिय होते हैं। ऐसे में आप कृष्ण जन्माष्टमी पर उन्हें ड्राई फ्रूट्स के लड्डू, बेसन के लड्डू या मोतीचूर के लड्डू का भोग लगा सकते हैं।

खीर

कई त्योहारों के दौरान खीर बनाने के विशेष महत्व होता है। यह देसी मिठाई दूध, चावल और बादाम जैसे कई सारे ड्राईफ्रूट्स के साथ बनाई जाती है। भगवान कृष्ण को दूध से बनी हुई चीजें वैसे भी अधिक प्रिय है।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर