Sunday, January 29, 2023
HomeदेशPM मोदी ने की 92वें 'Mann Ki Baat'

PM मोदी ने की 92वें ‘Mann Ki Baat’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने मासिक रेडियो संबोधन ‘मन की बात’ के 92वें एपिसोड के जरिए देश को संबोधित किया। अपने भाषण के दौरान, पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने स्वतंत्रता दिवस और अमृत महोत्सव पर “देश की सामूहिक शक्ति” देखी। उन्होंने बाजरा के उत्पादन के बारे में भी बताया और डिजिटल इंडिया पहल की सराहना की।

यहां पीएम मोदी के ‘मन की बात’ भाषण के शीर्ष उद्धरण दिए गए हैं:

1. अमृत महोत्सव और स्वतंत्रता दिवस के विशेष अवसर पर हमने देश की सामूहिक शक्ति को देखा।

2. अमृत सरोवर का निर्माण एक जन आंदोलन बन गया है। देश भर में सराहनीय प्रयास देखे जा सकते हैं।

3. संयुक्त राष्ट्र ने एक प्रस्ताव पारित कर 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष घोषित किया है। आपको यह जानकर भी बहुत खुशी होगी कि भारत के इस प्रस्ताव को 70 से अधिक देशों का समर्थन मिला है।

4. आज बाजरा को सुपरफूड की श्रेणी में रखा जा रहा है। देश में बाजरा को बढ़ावा देने के लिए बहुत कुछ किया जा रहा है। इससे संबंधित अनुसंधान और नवाचार पर ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ एफपीओ को प्रोत्साहित किया जा रहा है, ताकि उत्पादन बढ़ाया जा सके

5. भारत विश्व में बाजरा का सबसे बड़ा उत्पादक है, इसलिए इस पहल को सफल बनाने की जिम्मेदारी भी भारत के लोगों के कंधों पर है। हम सभी को मिलकर इसे जन आंदोलन बनाना है, साथ ही देश की जनता में बाजरा के प्रति जागरूकता भी बढ़ानी है।

6. डिजिटल इंडिया पहल की बदौलत देश भर में डिजिटल उद्यमी बढ़ रहे हैं।

7. जल जीवन मिशन देश को कुपोषण मुक्त बनाने में बड़ी भूमिका निभा रहा है। मेरा आप सभी से आग्रह है कि कुपोषण दूर करने के प्रयासों में भाग लें।

8. असम के बोंगई गांव में एक दिलचस्प प्रोजेक्ट चलाया जा रहा है, वह है प्रोजेक्ट संपूर्ण। इस प्रोजेक्ट का मकसद कुपोषण से लड़ना है और इस लड़ाई का तरीका भी बेहद अनोखा है।

9. ‘स्वराज’ उन अनसुने नायकों और नायिकाओं की कहानी है जिन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में हिस्सा लिया था। ‘स्वराज’ का प्रसारण हर रविवार रात 9 बजे दूरदर्शन पर 75 सप्ताह तक किया जाएगा। मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप इसे स्वयं देखें और अपने बच्चों को भी दिखाएं।

10. प्रधानमंत्री जन धन खाता गरीबों के आर्थिक सशक्तिकरण की कुंजी बना। जन धन योजना के तहत पिछले 8 साल में 46.30 करोड़ खाते खोले गए।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर