Wednesday, June 29, 2022
Homeउज्जैनउज्जैन:54 वार्ड 179 प्रत्याशी... 15 में भाजपा और कांग्रेस की सीधी टक्कर...

उज्जैन:54 वार्ड 179 प्रत्याशी… 15 में भाजपा और कांग्रेस की सीधी टक्कर…

54 वार्ड 179 प्रत्याशी… 15 में भाजपा और कांग्रेस की सीधी टक्कर…

20 वार्डों में त्रिकोणीय मुकाबला, भाजपा के 14 तो कांग्रेस के 10 बागी प्रत्याशी मैदान में

नुकसान होने का अनुमान, भाजपा में अधिक बागी

महापौर पद के 5 प्रत्याशी

उज्जैन।नाम वापसी के बाद बुधवार को नगर निगम चुनाव में महापौर और पार्षद पद के लिए चुनाव लडऩे वाले प्रत्याशियों की तस्वीर व आंकड़ा साफ हो गया है।

अब 54 पार्षद पद के लिए 179 प्रत्याशियों के बीच मुकाबला है।इनमें से 15 वार्डों में तो भाजपा-कांग्रेस के प्रत्याशी के बीच सीधी टक्कर है।

20 वार्डों में त्रिकोणीय मुकाबले की संभावना है। सर्वाधिक 7-7 प्रत्याशी वार्ड क्रमांक 13 व 40 में हैं। महापौर पद के लिए भी पांच प्रत्याशियों के बीच मुकाबला होगा। इन सभी पदों के लिए 6 जुलाई को मतदान होने हैं। प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला कुल 4 लाख 61 हजार 103 मतदाताओं के हाथ में है।

उज्जैन नगर निकाय चुनाव को लेकर बुधवार को नामांकन वापस लेने का अंतिम दिन 54 वार्डों के उम्मीदवारों को लेकर स्थिति स्पष्ट हो गई है।। बागी प्रत्याशी के मैदान मेें होने से दोनों ही पार्टियों के प्रत्याक्षी को नुकसान हो सकता है।चुनाव के लिए नाम वापसी के बाद शेष रहे प्रत्याशियों को चुनाव चिन्ह आंवटित कर दिए है।

पत्नियों को उतारा मैदान में...कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों के 24 बागी चुनाव मैदान में है इनमें से चार प्रमुख नाम सामने आए हैं।

पूर्व पार्षद भगवान खांडेकर ने कांग्रेस से टिकट नहीं मिलने पर वार्ड क्रमांक 8 से अपना नामांकन दाखिल किया था,वे अब निर्दलीय मैदान में हैं। वही महिला के लिए वार्ड आरक्षित होने पर तीन पूर्व पार्षदों ने अपनी पत्नियों को चुनाव मैदान में उतारा है। इनमें से दो भाजपा और एक कांग्रेस से हैं।

पूर्व पार्षद रहे सलीम कबाड़ी ने अपनी पत्नी बानो बी को 14 नंबर वार्ड से निर्दलीय प्रत्याशी बनवाया है। कबाड़ी पिछला चुनाव निर्दलीय जीते थे। कुछ समय के लिए भाजपा में भी शामिल हो गए थे। इस बार उन्होंने अपनी पत्नी के लिए कांग्रेस से टिकट मांगा था, लेकिन कांग्रेस ने प्रत्याशी नहीं बनाया।

वार्ड 50 से भाजपा के पूर्व पार्षद अरुण देशपांडे ने अपनी पत्नी अमृता देशपांडे को और वार्ड 42 से पूर्व पार्षद राधेश्याम वर्मा ने अपनी पत्नी गोकुल वर्मा को निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव मैदान में उतारा है। पिछली नगर निगम परिषद में वर्मा भाजपा से पार्षद थे।

इसके अलाव नगर में आरएसएस के तीन पूर्व पदाधिकारी और स्वयंसेवक ने भी निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरने का फैसला किया है।

इसमें वार्ड 37 से संतोष सिसौदिया खुद चुनाव लड़ रहे है। वार्ड 49 से राजेंद्र सोनी ने पत्नी रोमा सोनी और 53 से राजेश सोंलकी भी अपनी पत्नी सुनीता को निर्दलीय प्रत्याशी बनाया है।

नगरीय निकाय चुनाव के लिए कांग्रेस-भाजपा से टिकट से वंचित होने के बाद पार्षद बननेे आस में निर्दलीय मैदान में रहने वाले उम्मीदवार दोनों पार्टी के लिए सिरदर्द बने हुए है। अब कुछ वार्ड में पार्टी के घोषित प्रत्यशियों को नुकसान होने का अनुमान भी जानकार लगा रहे है।

उज्जैन नगर निगम चुनाव को लेकर नाम वापसी के बाद मुकाबले के लिए तस्वीर लगभग साफ हो गई है कांग्रेस को 10 और भाजपा को 14 बागियों का सामना करना पड़ेगा 15 वार्डों में सीधा मुकाबला है वही 20 वार्डों में तीन उम्मीदवार होने के कारण त्रिकोणीय मुकाबला होने के आसार है उज्जैन नगर निगम के 6 जुलाई को होने वाले चुनाव के लिए कांग्रेस और भाजपा के 54-54 अधिकृत प्रत्याशियों के अलावा टिकट न मिलने की वजह से बागी उम्मीदवार भी मैदान में है। इसके अलावा कुछ और वार्डों में प्रभाव रखने वाले प्रत्याशी निर्दलीय तौर पर चुनाव मैदान में होते हैं।

फिलहाल की स्थिति में भाजपा को कांग्रेस से अधिक बागियों का सामना करना पड़ रहा है बुधवार को नाम वापसी के बाद कांग्रेस के 10 ऐसे उम्मीदवारों ने नाम नाम वापस नहीं लिए,जो टिकट के लिए दावेदारी कर रहे थे।

पार्टी द्वारा अधिकृत प्रत्याशी नहीं बनाए जाने पर उनका नामांकन निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर दर्ज हो गया है। भाजपा में प्रत्याशी ऐसे हैं जिन्हें पार्टी ने टिकट नहीं दिया। उन्होंने भाजपा से अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था। नाम वापसी के बाद यह निर्दलीय भी हो गए हैं। भाजपा में ऐसे प्रत्याशियों की संख्या 14 हैं।

महापौर पद के 5 प्रत्याशी

महेश परमार, कांग्रेस

मुकेश टटवाल, भाजपा

प्रकाशचंद्र नरवरिया, बसपा

संतोष वर्मा, आप

बाबूलाल चौहान, निर्दलीय

3 हाथी पर, तो 13 नेता झाड़ू के साथ

कांग्रेस भाजपा के 54-54 अधिकृत प्रत्याशी के अलावा मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों के 16 प्रत्याशी भी अलग-अलग वालों से चुनाव मैदान में है। इसमें आम आदमी पार्टी के 13 प्रत्याशी झाड़ू चुनाव चिन्ह लेकर उतरे हैं। बसपा के तीन उम्मीदवार हाथी चुनाव चिन्ह के साथ प्रत्याशी बने है। कांग्रेस, भाजपा, बसपा, आप के अधिकृत प्रत्याशियों के अलावा शहर के 54 वार्डों में 55 निर्दलीय उम्मीद्वार है। इन्हें अलग-अलग चुनाव चिन्ह आवंटित किए गए हैं।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर