Tuesday, February 7, 2023
Homeउज्जैन समाचारविक्रम विश्वविद्यालय के कामकाज में तालमेल का अभाव..

विक्रम विश्वविद्यालय के कामकाज में तालमेल का अभाव..

सात दिन में तीसरी बार परीक्षाएं स्थगित

उज्जैन। विक्रम विश्वविद्यालय के कामकाज में तालमेल का अभाव है। पुनर्मूल्यांकन और पुनर्गणना के रिजल्ट ही नहीं आए और परीक्षा का कार्यक्रम जारी कर दिया। समन्यव नहीं होने की वजह से निर्मित के कारण सात दिन में तीसरी बार परीक्षाएं स्थगित करना पडी है। इसका खामियाजा विद्यार्थियों को भूगतना पड़ रहा है।

विक्रम विश्वविद्यालय में मार्च 2022 में हुई मुख्य परीक्षाओं के बाद इनके पुनर्मूल्यांकन और पुनर्गणना के रिजल्ट अब तक जारी नहीं हो सके हैं। इसकी वजह से विश्वविद्यालय ने 12 से 14 दिसंबर के बीच होने वाली विशेष वार्षिक और पूरक परीक्षाओं को भी स्थगित कर दी है। शनिवार देर शाम विश्वविद्यालय प्रशासन ने द्वितीय और तृतीय वर्ष की 12, 13 एवं 14 दिसंबर को होने वाली विशेष वार्षिक और पूरक परीक्षाओं को स्थगित करने के आदेश जारी किए। इसके बाद 15 दिसंबर से होने वाली सभी शेष परीक्षाएं यथावत होंगी।

बता दें कि बीए, बीएससी और बीकॉम के द्वितीय एवं तृतीय वर्ष के परिणाम घोषित होने के बाद इनके पुनर्मूल्यांकन एवं पुनर्गणना के रिजल्ट विवि जारी नहीं कर पाया है। इनमें से केवल बीकॉम के ही रिजल्ट जारी हुए हैं। इसकी वजह से इसके पहले 5 से 8 दिसंबर के बीच होने वाली और फिर 9 व 10 दिसंबर को होने वाली विशेष वार्षिक एवं पूरक परीक्षाओं को भी स्थगित करना पड़ा था।

रिजल्ट जारी किए बगैर परीक्षा

परीक्षाओं की तैयारियों को लेकर किस तरह काम किया जाता है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि विश्वविद्यालय ने वार्षिक प्रणाली के अंतर्गत होने वाली परीक्षाओं के पुनर्मूल्यांकन और पुनर्गणना के रिजल्ट ही जारी नहीं किए और विशेष वार्षिक एवं पूरक परीक्षाएं रख दी। विश्वविद्यालय ने शिक्षा सत्र 2021-22 के अंतर्गत बीए, बीएससी और बीकॉम सहित अन्य पाठ्यक्रमों के द्वितीय और तृतीय वर्ष की विशेष वार्षिक और पूरक परीक्षाओं का परीक्षा कार्यक्रम जारी कर दिया। जबकि इन परीक्षाओं के पुनर्मूल्यांकन और पुनर्गणना के रिजल्ट ही जारी नहीं किए। रिजल्ट जारी नहीं हुए तो विश्वविद्यालय प्रशासन को ताबड़तोड़ विशेष वार्षिक और पूरक परीक्षा के प्रश्न पत्रों को निरस्त करना पड़ा।

जरूर पढ़ें

मोस्ट पॉपुलर